अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य ललित कला

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

मोबाइल

सृजनहार से बोला
जन्म लेने वाला बच्चा। 
हे परमपिता। 
हे सृष्टिकरता। 
चाहे मुझे दे 
कैसे भी माता-पिता। 
 
पर वरदान ऐसा दो
खाने को कच्चा भी हो 
पर मोबाइल अच्छा हो।
 
मोबाइल पर 
दृढ़ भक्ति देख 
भगवान ने भी प्रमोद किया। 
मोबाइल के सारे गुण 
उनकी खोपड़ी में 
डाउनलोड किया।
 
मोबाइल के वरदान से 
पुलकित हो बच्चा 
जब धरती पर आता है। 
मोबाइल की रिंगटोन की ही तरह 
रोता है चिल्लाता है।
 
उठा लो 
तो चुप हो जाता है।
चाहे मोबाइल हो य बच्चा
यहीं से बढ़ती है अपेक्षा।
 
बचपन से ही चाहे 
डालो कितना भी गुण-स्वभाव।
हाथ में मोबाइल दे दो 
तो बदल जाता है हाव भाव।
 
नया मॉडल और नया मेहमान 
जब भी आता है।
ख़ुशी का माहौल 
एक ही जैसा समाता है।
 
दिन-ब-दिन आजकल जैसे 
दूध का दाम चढ़ रहा है।
बच्चे की तरह मोबाइल का 
स्क्रीन साइज़ भी आजकल 
बढ़ रहा है।
 
मोबाइल पर टाइम देखना 
हमारी असलियत बन रही है।
टूथब्रश की तरह आज मोबाइल 
हमारी आदत बन रही है।
 
पति-पत्नी संग में हो न हो 
पर मोबाइल होता है साथ में।
यह हमारे हाथ में है 
या हम हैं उनके हाथ में।
 
मेल मिलाप और नज़दीकियों की
मानो सजा रहे हैं सेज।
एक ही घर में एक दूजे को
फ्रेंड रिक्वेस्ट रहे हैं भेज ।
 
भविष्य में
करवा चौथ और मौन व्रत से
कठिन एक और व्रत आएगा ।
दिनभर मोबाइल न प्रयोग करने का 
उपवास दिया जाएगा।
 
इश्क़ के जुमले बदल जाएँगे
बदल जाएँगे नियम काम के।
ग़ालिब की तरह हम भी कहेंगे 
कि मोबाइल ने निकम्मा बना दिया 
वरना हम भी आदमी थे काम के।
 
हमारे पूर्वजों ने जो संघर्ष किया 
उस समय मोबाइल नहीं 
सच्चाई थी संस्कृति थी सादगी थी।
स्मार्ट फोन न 
पर ज़िंदगी थी।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अथ स्वरुचिभोज प्लेट व्यथा
|

सलाद, दही बड़े, रसगुल्ले, जलेबी, पकौड़े, रायता,…

अन्तर
|

पत्नी, पति से बोली - हे.. जी, थोड़ा हमें,…

अब बस जूते का ज़माना है
|

हर ब्राण्ड के जूते की  अपनी क़िस्मत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी

कविता

हास्य-व्यंग्य कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं