अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

मृत्यु : जीवन का यथार्थ

मृत्यु शैय्या पर पड़ी पड़ी,
मैं देख रही हूँ अपनों को,
ये वो मेरे अपने हैं,
जो मुझे जलाने आये हैं।

 

कंपित हाथों में अग्नि लिए,
वो चलते हैं गिर जाते हैं,
मुझको ज्वाला देनी है,
यह सोच ही मन घबड़ाते हैं।

 

जीवन के कितने ही सावन,
साथ गुज़ारे हैं हमने,
घर के इक-इक पर्दे कोने,
साथ सँवारे हैं हमने।

 

मेरी हर एक पीर पर,
दर्द उन्हें भी होता था,
उनका चेहरा मुरझाये,
तो मन यह मेरा रोता था।

 

सात जनम के इस बंधन को,
बस यहीं तलक रह जाना होगा,
दुनिया का यह मोह जाल,
छोड़ मुझे अब जाना होगा।

 

दूर खड़ा मेरा बेटा,
रो रो कर पास बुलाता है,
अपनी इक इक ग़ल्ती पर,
हाय कितना वो पछताता है।

 

इसको गर्भ में पाकर मैंने,
मानों तीरथधाम किए
कितने मन्दिर मस्जिद,
मन्नत माँगी,
कितने ही धरम,
विधान किए।

 

बेटे का यह प्यारा आग्रह,
भी मुझको ठुकराना होगा,
दुनिया का यह मोहजाल,
छोड़ मुझे अब जाना होगा।

 

ससुराल से छमछम करती हुई,
मेरी बेटी दौड़ी आयी है,
मेरी मौत की ख़बर को सुन,
वो मन ही मन घबड़ाई है।

 

हाथों की मेहंदी कहती है,
माँ तुम फिर से आ जाओ,
बचपन की वो प्यारी लोरी,
फिर से मुझे सुना जाओ।

 

बेटी का स्नेह निमंत्रण,
भी मुझको ठुकराना होगा,
दुनिया का यह मोहजाल,
छोड़ मुझे अब जाना होगा।

 

लाल चुनरिया सुन्दर लहंगा,
माथ पर बेंदी चमक रही है,
खनखन चूड़ी पाँव में बिछुए,
इत्र से काया महक रही है।

 

नातेदार सभी हैं आये,
आँखों में है सबके पानी,
सबसे रिश्ते टूटे मेरे,
बस इतनी सी थी मेरी कहानी।

 

डोली चढ़कर आयी थी,
अब अरथी में सज जाना होगा,
दुनिया का यह मोहजाल,
छोड़ मुझे अब जाना होगा।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं