अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य ललित कला

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

नरेन्द्र श्रीवास्तव - 5

1.
प्यासी धरती
बरखा की बूँदों में
घड़े का पानी।
2.
काली घटायें
बूँदों को विदा देने
नभ पे आयीं।
3.
बरखा बूँदें
आकाश से बिछड़ी
धरा में खोयीं।
4.
अषाढ़ मेघ
जल कलश लिये
पावस पर्व।
5.
बरखा बूँदें
शीशे के मंदिर में
तस्वीर तेरी।
6.
बरखा बूँदें
गुनगुनातीं रहीं
विरह गीत।
7.
बरखा बूँदें
बहाती रहीं आँसू
बाट जोहती।
8.
बरखा बूँदें
यत्र तत्र सर्वत्र
तुझे ढूँढ़तीं।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

15 अगस्त कुछ हाइकु
|

आओ मनायें सारे मिल के साथ दिन ये शुभ  …

28 नक्षत्रों पर हाइकु
|

01. सूर्य की पत्नी साहस व शौर्य की माता…

अतृप्त मन
|

धोखा ही खाया, मन ये सिरफिरा, फिर से गिरा।…

अपनी भाषा
|

अपनी भाषा आत्म ज्ञान का स्रोत गले लगायें…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी

गीत-नवगीत

किशोर साहित्य कविता

कविता - हाइकु

बाल साहित्य कविता

कविता

किशोर साहित्य आलेख

बाल साहित्य आलेख

अपनी बात

किशोर साहित्य लघुकथा

लघुकथा

हास्य-व्यंग्य कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं