अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

नसीब

अपने स्वभाव के प्रतिकूल वह, बकरी बन गई थी। उपाय भी क्या था। कुछ भी तो उसके अनुकूल नहीं था, इस दुनिया में। न रूप, न शरीर, जो पुरुष के लिए अभिनंदनीय था। बस थोथा स्वाभिमान था। मरने का हौंसला नहीं था, इसलिए जीना था ही, चाहे परिस्थिति कितना भी मुँह चिढ़ाए। हाँ, विद्या नामक डिग्री तो थी उसके पास, जिसका उसे अभिमान भी था। मगर डिग्री का तो तब मोल होता जब नौकरी रहती, कोई भी, कैसी भी, कहीं भी। यहाँ समय ने भी उसे अँगूठा दिखा दिया। अब दूसरा एक ही रास्ता बचा, जो गैंडे वाली मोटी खाल थी, उसे सहन शक्ति भी कहा जाता था। उसके सामने रात-दिन, किसी भी पहर, उसकी कमियाँ गिनायी जा सकती थीं, और उससे सिर्फ़ और सिर्फ़ मुस्कुराना चाहिए, की उम्मीद की जाती थी। यहाँ यह बताना नितांत आवश्यक है, कि पूर्व जन्म में नहीं, इसी जन्म में, बकरी पहले बाघ हुआ करती थी, धड़ाक से शिकार की गर्दन दबोचने में माहिर, उससे भयभीत रहने वालों की संख्या भी पर्याप्त थी। अब वह जब से बकरी बनी, ख़ुद ही सबकी शिकार हो गई थी। और लोग समझ रहे थे, वो जी रही थी। वैसे लोगों को क्या फ़र्क पड़ने वाला था, उसके जीने से या मरने से। फिर भी, जी तो वह रही थी ज़िंदगी को ही। 

सारा बोझ अपने पीठ पर उठाए कभी वह गदही बन जाती, तो कभी घोड़ी। उसे लगता, सेवा करके भी तो वह इस परिवेश में अपना स्थान बना ले, ताकि बैठ कर खाने वालों या धरती का बोझ न समझी जाय। धरती पर चंद लमहे स्वाभिमान से जी सके। मगर लोगों को फिर भी उससे कष्ट था, फलस्वरूप जब-तब अकारण, अथवा घमंड के फलस्वरूप उनकी सहनशीलता की सीमा लाँघ जाती, और इस आक्रोश की चपेट में आई बेचारी बकरी मिमियाने लग जाती। थोड़ी देर बाद उन्हें अपनी ज़्यादती का आभास होता, तो वे बकरी को समझाने-बुझाने लगते,  "अपने आप को बदलो, नहीं तो तेरा जीना मुश्किल हो जाएगा”। 

बकरी मिमियाती, “अब मैं कितना बदलूँ अपने आप को, बकरी से क्या बनूँ?”

बात आई गई हो जाती। उस पर कुछ हल्की सी दया दिखा दी जाती। बकरी भी अपनी असलियत समझती थी। मगर उसका डीएनए भी तो बकरी का नहीं था, मजबूरी का क्या नाम दिया जाए। असमय हलाल होने के पक्ष में नहीं थी। जीवन संघर्ष है, उसे ख़ूब पता था, कभी कुछ दारुण दुख से दुखी हो जब वह ज़ोर से, व लगातार मिमिया जाती, तो घर में हल्ला होने लगता;  “आख़िर कितना कोई बर्दाश्त करे, ऐसी ही हालत में लोग तलाक़ ले लेते हैं”। 

वह इस भयंकर चाबुक से आहत हो, पिछला दर्द भूल कर सहम जाती। बाहर की कष्टप्रद दुनिया के बारे में उसे ख़ूब मालूम था। कुछ समय के बाद, कुछ सोच-विचार कर, फिर उसके चालाक मालिक द्वारा सामने हरा-हरा घास डाल दिया जाता। सब कुछ भूलकर, वह उन घास को पहले सब को खिलाती, फिर उसके खाने की बारी आती। तब तक घर में शांति फैली हुई होती। 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

......गिलहरी
|

सारे बच्चों से आगे न दौड़ो तो आँखों के सामने…

...और सत्संग चलता रहा
|

"संत सतगुरु इस धरती पर भगवान हैं। वे…

 जिज्ञासा
|

सुबह-सुबह अख़बार खोलते ही निधन वाले कालम…

 बेशर्म
|

थियेटर से बाहर निकलते ही, पूर्णिमा की नज़र…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कहानी

कविता

लघुकथा

सांस्कृतिक कथा

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं