अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

नव वर्ष (भुवन चन्द्र उपाध्याय)

जश्न ओ जूनूं जहां में छा गया है
स्वागत नया साल तू आ गया है


अनसुलझी पहेली, सुलझने लगेगी
सवालो सैलाब, हल देने लगेगी
फ़िज़ायें गर्द अपनी, धोने लगेंगी
बहारों में शोख़ी, मचलने लगेगी


जज़्बाते दिले, नायाब आ गया है
सबको मुबारक, नया साल आ गया है


तन्हाई ज़िंदगी से रुख़्सत करेगी
वफ़ाई हर इंसा में, शिरकत करेगी
चहकेंगे चेहरे, सभी के हँसी से
दोनों जहां मिल, महकेंगे ख़ुशी से


ख़ूबसूरत ख़्वाबो ख़्याल आ गया है
सबको मुबारक, नया साल आ गया है


ज़मीं से फ़लक तक, हमदम बनेंगे
क़दम दर क़दम रख, हरदम बढ़ेंगे
हंसी चाहतों का, सफ़र आ गया है
दुआ में वफ़ा का, असर आ गया है


निगेहबां इस दफ़ा इक नया आ गया है
सबको मुबारक नया साल आ गया है


मुर्झायी हसरतें फिर, खिलने लगेंगी
दुश्वारियाँ अब दूर, हटने लगेंगी
दरमियां मोहब्बत का, आग़ाज़ होगा
नादानियाँ हये! दौर थमने लगेंगी


रुक ऐ ज़िंदगी, नया राह आ गया है
सबको मुबारक, नया साल आ गया है


उम्मीदों के लौ से, रोशन होगी दुनियां 
दिलों में शराफ़त की, जलेगी बिजुलियाँ
ठुकरायेगी दोहरे, स्याह फ़लसफ़े को
चैन- ओ-अमन से,  जियेगी दुनियां


सब सलामत रहें, जज़्बात आ गया है
सबको मुबारक, नया साल आ गया है


किसी पे करम सितम वो कहीं पर
बेदर्द मौसम सिकन ला गया है
फ़ासले सिमटे तब महसूस होंगे
जब सब कहेंगे वो निशां आ गया है


बेपनाह चाहतों का समां आ गया है
सबको मुबारक नया साल आ गया है

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

1984 का पंजाब
|

शाम ढले अक्सर ज़ुल्म के साये को छत से उतरते…

 हम उठे तो जग उठा
|

हम उठे तो जग उठा, सो गए तो रात है, लगता…

अच्छा है तुम चाँद सितारों में नहीं
|

अच्छा है तुम चाँद सितारों में नहीं, अच्छा…

अब हमने हैं खोजी नयी ये वफ़ायें
|

अब हमने हैं खोजी  नयी ये वफ़ायें माँगनी…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

नज़्म

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं