अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य ललित कला

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

नव वर्ष का आगमन

नव वर्ष का आगमन 
देखा है मैंने उन बूढ़ी आँखों में
जो बैठा है दालान में पड़ी चारपाई पर 
निहारता परिवार को 
दीवार पर टँगे
ताम्बे के फ़्रेम में 
 
नव वर्ष का आगमन देखा है मैंने 
महानगर के चौराहे पर
उन नन्ही सी आँखों में 
मैले कपड़ों से पोंछते 
चमचमाती गाड़ियों को 
कोशिश करता मापने की 
बेबसी और उम्मीद 
के बीच के अंतर को ।
 
नव वर्ष का आगमन देखा है मैंने 
दहलीज़ पर खड़ी दुलहन की नज़रों में 
इंतज़ार है जिसे उसका 
जो गया वर्षों पहले 
कमाने मुट्ठी भर दाने 
लौटेगा वह 
और विश्वास दिलाएगा 
कि बस एक अफ़वाह थी 
कि बसा लिया उसने 
नया घर
 
नव वर्ष का आगमन देखा है मैंने 
देवालय के द्वार पर बैठी 
रुग्ण रक्तविहीन झुर्रियों की प्रार्थनाओं में 
चिंतातुर उस पुत्र के लिए 
जो त्यागकर उसे यहाँ 
न जाने कहाँ खो गया। 
 
नव वर्ष का आगमन देखा है मैंने 
आलमारियों में ज़ब्त 
उन अक्षरों में, गीतों में, ग़ज़लों में 
तरसती एक आवाज़ को 
कि मिलेगा कोई 
जो उड़ाएगा धूल 
और बाँधेगा उन्हें लफ़्ज़ों में 
 
हाँ देखा है मैंने 
नव वर्ष का आगमन 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

528 हर्ट्ज़
|

सुना है संगीत की है एक तरंग दैर्ध्य ऐसी…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

कहानी

स्मृति लेख

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं