अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

नवयुग का गीत

जो पीत हुए पत्र रोक रहे हरित नवकोंपलों को,
उन्हें आज वृक्ष शाखाओं से टूट कर गिरने दो 
जो दिन हो गए हैं सारहीन पुरातन युग के वे 
उन्हें आज हमारे जीवन से तुरंत तुम फिरने दो।

 

जो महल बने पड़े हैं विघ्न मानव प्रगति में 
उन्हें बास्तील के क़िले समान  गिराओ तुम 
ध्वजा अन्याय व अनैतिकता की हो  निर्भीक
सड़क सड़क पथ पथ पर मिलकर जलाओ तुम।

 

हटो! हटो! वर्षों से जमे पड़े निरर्थक तड़ागो!
जल की नवीन धाराओं को भू पर आने दो 
ओ! काई के समान अटे पुरातनता के मेघो!
नवीन प्रतिभा की किरणों को अब छाने दो।

 

ओ सदियों के साक्षी गुरु आकार के वटवृक्षो!
नए पौधों को अपनी छाँव में तुम पनाह  दो 
इस परिवर्तन प्रवाह को न रोको बीच में आ 
उदारता पूर्वक नवीन युग को तुम अब राह दो!

 

वरना अपने अस्तित्व का इस क्षण त्याग करो 
अथवा नवयुग के उदय का तुम भी भाग बनो 
जो पत्थर है नदी के मार्ग में, वे भी तो  हटेंगे
राम के बाण द्वारा, रावण के दस शीश कटेंगे। 

 

साक्षी इस महाभ्युदय के, तुम सभी सहर्ष बनो 
न बोलो न सोचो आज, केवल देखो और सुनो 
नवयुग के नवीन योद्धा आज इधर ही आ रहे
'विजय हो हमारी'-  घोष कर गीत यह गा रहे।  

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

दोहे

ग़ज़ल

कविता

लघुकथा

कहानी

किशोर साहित्य कहानी

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं