अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

नूतन वर्ष

नूतन वर्षा बता
नया तू क्या लाया है
क्या हमारे भाग्य मैं थोड़ी
शान्ति लिखवा पाया है

हर और मची है हाहाकर
इंसानियत बिक रही 
सरे बाज़ार
कफ़न बेच चला रहे 
सब अपना रोज़गार
हो रहे हैं हालत 
बद से बदतर लगातार
मनुष्य को मनुष्यता का पाठ 
क्या तू पढ़ा पाया है
नूतन वर्षा बता
नया तू क्या लाया है

क्या सागर ने किया है वादा 
इस वर्ष किसी को न डुबोने का?
दिया है धरती ने वचन क्या 
किसी घर को न गिराने का?
बारिश ने कहा क्या
समय पर बरस जायेगी?
सूखे खेतों पर हरियाली और 
किसानों के घर रोटी की
झड़ी लगायेगी?
फूलों से पराग का, 
गेहूँ और गुलाब का-
क्या थोड़ा सा भी 
आश्वासन लाया है?
नूतन वर्षा बता
नया तू क्या लाया है

दिल मैं नफ़रत के बीज बोते हैं
सत्ता और लालच के ठेकेदार
कुछ ऐसी चालें चलते हैं
बेवज़ह, बेवक़्‍त की जंग में
सरहद पर तब 
धरती के लाल मरते हैं
बुझ गए इस दीपमाला की 
किरण क्या तू लाया है?
नूतन वर्षा बता
नया तू क्या लाया है

मैं नूतन वर्ष 
नया सवेरा लाया हूँ, 
नई किरण, नया चाँद, 
नया आसमान लाया हूँ
मैं नूतन वर्ष 
नया सवेरा लाया हूँ
तुम चाहो तो 
कुछ भी कर सकते हो
जैसी चाहो दुनिया 
वैसी बना सकते हो
तारों की बारात 
धरती पर बिछा सकते हो
ख़ुद अपना एक 
आसमान बना सकते हो
पर यदि तुम चाहो तो
इसी चाह का विश्वास 
मैं तुम में जगाने आया हूँ 
मैं नूतन वर्ष 
नया सवेरा लाया हूँ, 
नई किरण, नया चाँद, 
नया आसमान लाया हूँ
कुछ नई उमंग, नई तरंग, 
नए साज़ मैं तुमको सुनाने आया हूँ
मैं नूतन वर्ष 
नया सवेरा लाया हूँ

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

बाल साहित्य कविता

बाल साहित्य कहानी

नज़्म

कहानी

स्मृति लेख

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं