अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य ललित कला

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

न्याय

"द्रौपदी इस साम्राज्य की महारानी है और एक महारानी को यह अधिकार नहीं है कि वह अपनी ही प्रजा की झोपड़ियों में आग लगाए। उन्होंने एक अक्षम्य अपराध किया है। उन्हें इसके लिए कड़ी से कड़ी सज़ा दी जानी चाहिए। मैं महाराज युधिष्ठर.... कानून को धर्मसम्मत मानते हुए उन्हें एक साल की सज़ा दिए जाने की घोषणा करता हूँ।"

महाराज का फ़ैसला सुनते ही राजदरबार में सन्नाटा सा छा गया था। चारों तरफ़ इस फ़ैसले पर कानाफूसी होने लगी, लेकिन उनके खिलाफ़ बोलने की हिम्मत कोई नहीं जुटा पा रहा था।

फ़ैसला सुन चुकने के बाद भीम से रहा नहीं गया। अपनी जगह से उठकर उन्होंने आपत्ति दर्ज की- "महाराज फ़ैसला देने के पूर्व आपको यह तो सोचना चाहिए था कि वे एक महारानी होने के साथ-साथ, आपकी-हमारी धर्मपत्नी भी है। यदि उन्होंने ऐसा किया है तो ज़रूर उसके पीछे कोई बड़ा कारण रहा होगा। उन्होंने जानबूझ कर तो ये सब नहीं किया होगा। अगर झोपडियाँ जला भी दी गयी हों तो इससे क्या फ़र्क पड़ता है। हम उन्हें नयी झोपडियाँ बनाने के लिए बाँस-बल्लियाँ मुहैया करा सकते हैं। वे दूसरी झोपड़ी बना लेगें।"

"भीम... ये तुम कह रहे हो। एक जवाबदार आदमी इस तरह की बात कैसे कह सकता है? मैंने उन्हें सज़ा देने का आदेश ज़ारी कर दिया है। अब उन्हें एक साल तक कारावास में रहना होगा। इस फ़ैसले में अब कोई सुधार की गुंजाइश नहीं है।"

"महाराज...यदि महारानी ने अपराध किया ही है तो उसकी सज़ा आप हम भाइयों को कैसे दे सकते हैं?"

"भीम ...आखिर तुम कहना क्या चाहते हो?"

"महाराज.. एक वर्ष में तीन सौ पैंसठ दिन होते हैं। यदि इसमें पाँच का भाग दिया जाये तो तिहत्तर दिन आते हैं। जैसा कि माँ का आदेश है कि उस पर सभी भाइयों का समान अधिकार रहेगा। मतलब साफ़ है कि वे बारी-बारी से तिहत्तर दिन हम प्रत्येक के बीच गुज़ारेगीं। एक वर्ष की सज़ा का मतलब है कि हमारे तिहत्तर दिन भी उसमें शामिल होंगे और हमें यह मंजूर नहीं कि हम उस अवधि की सज़ा अकारण ही पाएँ। यह कैसा न्याय है आपका?"

भीम की बातों में दम था और वे जो कुछ भी कह रहे थे उसे झुठलाया नहीं जा सकता था। अब सोचने की बारी महाराज युधिष्ठर की थी। काफ़ी गंभीरता से सोचते हुए उन्होंने इस समस्या का हल खोज निकाला था। उन्होंने कहा- "चूँकि महारानी ने एक अक्षम्य अपराध किया है, और उन्हें इसकी सज़ा अवश्य ही मिलेगी। उन्हें एक साल का सश्रम कारावास दिया जाता है। सज़ा की अवधि, उनके अपने स्वयं की अवधि में रहकर काटनी होगी।"

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

 छोटा नहीं है कोई
|

इलाहाबाद विश्वविद्यालय के गणित के प्रोफ़ेसर…

अक़लची बन्दर
|

किसी गाँव में अहमद नाम का एक ग़रीब आदमी रहता…

आतंकी राजा कोरोना
|

राज-काज के लिए प्रतिदिन की तरह आज भी देवनपुर…

आत्मविश्वास और पश्चाताप
|

आत्मविश्वास और पश्चाताप में युद्ध होने लगा।…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

सामाजिक आलेख

हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी

सांस्कृतिक कथा

ऐतिहासिक

पुस्तक समीक्षा

कहानी

स्मृति लेख

लघुकथा

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं