अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

नज़र अपनी अपनी

एक बच्चे की
आँख की रोशनी 
पल पल जाती रही
कम होती गई
माँ-बाप को हुई चिंता
इसका क्या होगा?
गर... इसकी रोशनी चली गई।

 

बाप बोला....
एक काम करें
इसकी आँखों की 
रोशनी कम होने पहले
क्यों ना, अख़बारों में
इश्तहार दें ...


"एक बच्चे को आँखें चाहिए
उसे अन्धा होने से बचाएँ ... "


कुछ दिनों के बाद
टेलीफोन खड़के, 
आवाज़ आई
मुबारक हो..
आपके बच्चे को 
आँखें मिल गईं।


माँ-बाप ने दी दुआ ..
आपरेशन हुआ
पट्टी खुली, माँ बोली .. ..


"बेटा, कुछ दिखाई दे रहा है
वो, बोला. ..  "हाँ"
ये सुनकर सब की बाँछे खिलीं
आवाज़ आई...
"शुक्र है ख़ुदा का और उसका भी,
जिसकी आँखें इसे मिलीं।"


वो उठा. . .,
सब को वहीं छोड़
सामने कुर्सी की ओर दौड़ा
धम्म से जा धस्सा..
बैठा उसमें होकर चौड़ा
सब एक दूसरे को देखते रहे
इशारों से पूछते रहे -
ये ऐसा क्यों कर रहा है
ये क्या हो रहा है।


तभी किसने कहा. . .
इसमें इसका कोई दोष नहीं
ये बात, आपकी 
समझ में नहीं आयेगी
दरसल, इसको 
जो आँखें मिली हैं,
वो, किसी नेता की हैं
वो आप लोगों को थोड़ी देखेंगी
वो- तो.. कुर्सी को देखेंगी।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अथ स्वरुचिभोज प्लेट व्यथा
|

सलाद, दही बड़े, रसगुल्ले, जलेबी, पकौड़े, रायता,…

अन्तर
|

पत्नी, पति से बोली - हे.. जी, थोड़ा हमें,…

अब बस जूते का ज़माना है
|

हर ब्राण्ड के जूते की  अपनी क़िस्मत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

हास्य-व्यंग्य कविता

हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी

प्रहसन

कहानी

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं