अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

पाव आटा

चालीस वर्षीया जानकी पिछले दस वर्षों से अपने से आयु में दो वर्ष छोटी रुक्मा मैडम के घर खाना बनाया करती थी लेकिन कोरोना संकट की वज़ह से लागू लॉकडाउन के कारण 25 मार्च से उसका आना नहीं हुआ। एक स्थानीय डिग्री कॉलेज में प्रवक्ता के पद पर कार्यरत रुक्मा मैडम के परिवार में वृद्ध ससुर के अलावा उनके पति और दो बच्चे, बारह वर्षीय बेटा अंशुल और आठ वर्षीया बेटी आरती हैं। बचपन से लेकर पिछले 24 मार्च तक किचन में सिर्फ़ चाय अथवा कुछ हल्का नाश्ता बनाने के लिए प्रवेश करने वाली रुक्मा मैडम को सबसे अधिक तकलीफ़ आटा गूँधने और रोटी बेलते वक़्त होती है। पति समीर डॉक्टर हैं और वे इन दिनों अस्पताल से सीधे किसी होटल में जाते हैं।

बहरहाल, आज रोटी बेलते वक़्त उनको जानकी की याद आ रही थी। वे मन ही मन सोच रही थी कितनी गोल और फूली रोटियाँ बनाती है जानकी?

उधर उसी वक़्त जानकी भी उनको याद कर रही थी। उसे अपने तीन बच्चों और पति के लिए रोटी बनानी थी लेकिन डिब्बे में सिर्फ पाव भर आटा था।

वह सोच रही थी, "रुक्मा मैडम कितनी ख़ुशनसीब हैं? उनके घर में आटे-चावल के डब्बे हमेशा भरे रहते हैं।"     

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

सांस्कृतिक कथा

लघुकथा

स्मृति लेख

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं