अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

पहाड़ी औरतें

पहाड़ी औरतें!
नज़दीक ब्याही गयीं,
मगर दूरियाँ क़ायम रहीं ताउम्र
पार करती रहीं . . .
ज़िंदगी के उतार-चढ़ाव
टेढ़े-मेढ़े रास्तों की तरह।
 
पहाड़ी औरतें!
पीठ पर किलटा उठाती,
सूखे पत्ते बटोरती, 
हरी घास काटती
मुस्कुराती रहीं।
और उनके साथ!
मुस्कुराते रहे बान के जंगल।
गाती रहीं घासनियाँ
और सीढ़ियाँ चढ़ते रहे
हरियाये खेत।
 
पहाड़ी औरतें!
पतियों को मैदानों में भेज
खटती रहीं जंगल-जंगल
वो चुन्नी में बाँधकर लाती रहीं
बच्चों के लिये . . . 
काफल के गुलाबी दाने
काले-पीले आखरे
और तोड़ लाती रहीं
खिले हुए बुरांश के फूल।
 
पहाड़ी औरतें!
पशुओं को प्रेम देती रहीं
उनके भी नाम रखे गए
उन्होंने भी स्नेह पाया
उन्हें भी पुचकारा, दुलारा गया।
अपने बच्चों की तरह।
कँपकँपाती ठंड!
उनके गाल सहलाकर,
उनको लाली देती रही
भरोटे के बोझ तले उनकी गर्दन
नृत्य करती रही
हवाओं की ताल पर।
 
उनकी झुर्रियों से झाँकता है!
अभाव में गुज़रा जीवन
दरातियों के दिए घाव
कहते हैं संघर्ष की कहानियाँ
और परेशानियों को मुँह चिढ़ाती है,
बुढ़ापे में भी सीधी तनी रीढ़।
 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं