अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य ललित कला

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

पहली दफ़ा

मज़हबी इमारतें
रात के सन्नाटे में मशग़ूल!
अजीब बहस...
इंसानियत बग़ैर इंसान 
हैरान रह गया सुनकर 
इंसानियत की टोकरी 
जो मेरे सिर पर थी - देखा तो
इंसानों के जगह हैवान दिखे 
पहली दफ़ा…
इंसानियत से दूर अलग दहलीज़॥

 

इमारतों के फटकार से 
रूह की दुत्कार से 
शर्मिंदा लेकिन ज़िंदा 
दबे पाँव भागना चाहा पर 
ख़ुदा को कहाँ पसंद 
इमारत की ईंट से टकराया
हँसी के ठहाके का अहसास
देखा तो रूह 
पहली दफ़ा…
मेरी तौहीन रूह के हँसने का सबब॥

 

बेशर्मी का आलम देखिये 
झूठी तस्सली देकर
मय्यत निकाली ज़मीर की
फ़ख़्र के साथ...
रूह से ऐसे अलग हुआ
मानो तलाक़ की अर्ज़ी क़बूल हुई
ऐसा ख़ुशमिज़ाज था मानो
परवरदिगार ने सारी 
ख़ता बख़्श दी हो 
पहली दफ़ा…
अपनी मय्यत का जनाज़ा पढ़ रहा था॥ 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

1984 का पंजाब
|

शाम ढले अक्सर ज़ुल्म के साये को छत से उतरते…

 हम उठे तो जग उठा
|

हम उठे तो जग उठा, सो गए तो रात है, लगता…

अच्छा लगा
|

तेरा ज़िंदगी में आना, अच्छा लगा  हँसना,…

अच्छा है तुम चाँद सितारों में नहीं
|

अच्छा है तुम चाँद सितारों में नहीं, अच्छा…

टिप्पणियाँ

SHAKTI PRAKASH 2019/05/26 10:16 AM

अतिसुन्दर रचना मुझे ऐसे मित्र पर गर्व है। धन्यवाद

Kaustubh 2019/04/20 01:29 PM

Aapke Alphas sadaiv isprakar dahityaprachar kare yehi eshar se kamana karate hai

Sushil 2019/04/20 01:07 PM

बहुत सुंदर लिखावट है आपकी

Sandip 2019/04/19 08:10 AM

Niceee

Atul 2019/04/18 07:14 PM

Superb

Tejas Vilas Shirore 2019/04/18 05:05 PM

Waah bhai waah!!

Suvidha Shinde 2019/04/18 04:56 AM

Very nice

Praveen upadhyay 2019/04/18 03:17 AM

Adbhut, sarahneey kary

Ramsuresh 2019/04/18 02:10 AM

Nice kavi ji

Viki 2019/04/17 06:56 PM

Hairaan reh gaya sunkar

Viphai 2019/04/17 04:27 PM

Marmik rachna

Viphai 2019/04/17 04:20 PM

Good!!!

Rahul 2019/04/17 02:51 PM

Ohh woww wt a growth man..

Sulochana 2019/04/17 08:54 AM

Very nice

Saisha Revankar 2019/04/17 06:57 AM

Very elegantly written. Loved it.. !!!!

Mehtab Alam 2019/04/17 05:07 AM

Kabile tareef

Swati korgaonkar 2019/04/17 03:03 AM

Nice one sir

Rajesh Kumar 2019/04/16 07:14 PM

Wonderful bhai..... Continue writing we need more poems like this.

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

हास्य-व्यंग्य कविता

हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी

सामाजिक आलेख

नज़्म

लघुकथा

कविता - हाइकु

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं