अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

पतंग

आकाश में उड़ती 
रंगबिरंगी पतंगें 
करती न कभी 
किसी से भेद-भाव 
 
जब उड़ नहीं पातीं 
किसी की पतंगें
देते मौन हवाओं को 
अकारण भरा दोष 
मायूस होकर 
बदल देते दूसरी पतंग 
भरोसा कहाँ रह गया
पतंग क्या चीज़ 
 
बस हवा के भरोसे 
ज़िंदगी हो इंसान की 
आकाश और ज़मीन के 
अंतराल को पतंग से 
अभिमान भरी निगाहों से
नापता इंसान 
और खेलता होड़ के
दाव-पेंच धागों से 
 
कटती डोर दुखता मन 
पतंग किससे कहे 
उलझे हुए 
ज़िंदगी के धागे सुलझने में 
उम्र बीत जाती 
 
निगाहें कमज़ोर हो जातीं 
कटी पतंग
लेती फिर से इम्तहान
जो कट के 
आ जाती पास हौसला देने 
 
हवा और तुम से ही 
मैं रहती जीवित 
उड़ाओ मुझे ?
मै पतंग हूँ उड़ना जानती 
तुम्हारे काँपते हाथों से 
नई उमंग के साथ 
तुमने मुझे 
आशाओं की डोर से बाँध रखा 
दुनिया को ऊँचाइयों का 
अंतर बताने उड़ रही हूँ 
खुले आकाश में।
 
क्योंकि एक पतंग जो हूँ 
जो कभी भी कट सकती 
तुम्हारे हौसला खोने पर। 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं