अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

पेड़ ..एक

मेरे लिए परीक्षा की घड़ी
सबकी नज़रें
मेरी ओर टिक गई है
मुझे अपने आप को
‘पेड़ साबित करना है’
पुर्जा निकला है मेरे नाम
‘पेड़’ लिखा है पुर्जे में
कैसे हो सकता है यह
मैंने तो कभी
पेड़ को महसूसा नहीं
इस तरह कि
साबित किया जा सके
अपने आप को पेड़

 

याद करता हूँ
घने जंगल में
बकरियों को चराता
वह साँवला सा बच्चा
झपकते ही पलक
कभी छुप जाता
पत्तों में तो कभी
पेड़ की ऊँचाई पर होता

 

मैं न होता
वह बच्चा होता यदि
साबित कर लेता वह
आसानी से
अपने आप को
‘पेड़’
मैंने हरेपन से
इन दिनों
कुछ परहेज़ भी कर लिया है
दरअसल
मुझे चढ़ना तक नहीं आया
अब तक
        पेड़ों पर
            और वैसा तो कतई नहीं
               जैसा चढ़ जाता था
                   जंगल का
                     वह बकरी चराने वाला बच्चा

 

सच कहूँ तो अभी
मुझे ईर्ष्या होने लगी थी
उससे

 

मुझे लग रहा था
अपने आपको
पेड़ साबित करने के लिए
पहले मुझे
अपने आपको
बकरी चराने वाला
वह बच्चा साबित करना होगा
सोचता हूँ
यह तो और भी कठिन है
पेड़ तो फिर भी पेड़ है
दूर से ही सही
मैंने देखा तो है उसे
छुआ भी है
कोशिश करूँ
जितना भी बन सकूँ
पेड़ बनूँ

 

चित्रों में
पा लेते हैं ये पेड़
ज़्यादा तारीफ़
टहनियाँ भी खूब जमती है
चित्रों में
बहुत भाती है
असल से भी अधिक

 

हाँ वह एक कविता
उसमें सीधी सपाट कई
लाईनों के बाद जब
पेड़ की एक टहनी आती है
कितनी प्यारी लगती है
जैसे हज़ार हज़ार कलियाँ
एक साथ खिल गई हों

 

मेरे चेहरे की इस आवाजाही कुछ ढूँढते
सबकी नज़रें
मुझ पर टिकी हैं
और अब भी मैं प्रयासरत हूँ
किसी तरह बन जाया जाय पेड़

 

पीपल के पत्तों को
मैं भी देखता हूँ
चित्रकार भी देखते हैं
बकरियाँ भी देखती हैं
पर कहाँ मेरा देखना
और कहाँ बकरियों का देखना
यदि कहा मुझे
पीपल का पत्ता बनों
मैं कुछ और बनूँगा
पर वह नहीं जो
बकरियाँ बनेंगी

 

अब तो पसीना पसीना हुआ जा रहा था
मेरा चेहरा

 

नहीं बन पाने का ’पेड़’
मुझे दर्द था
भाव उतर आया था
बुरी तरह
मेरे चेहरे पर
कि तब ही एक साथ
तालियाँ बज उठती हैं
सारे हाल में, सब ओर
सबके मुँह
एक ही शीर्षक
                 ’पेड़ की व्यथा’
                 ’पेड़ की व्यथा’

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं