अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

फिर आई सर्दी

सर्द ऋतु आते ही रजाई की याद आती है एक वो ही है जो ठंड में भी गर्मी का अहसास दिलाती है।
कभी-कभी लगता है कि जिन लोगो के पाससिर छुपाने को छत नहीं  है, जिनके पास पहनने को कपड़े नहीं हैं, कड़ाके की ठंड में ओढ़ने को रजाई नहीं है– वो अपना गुज़र-बसर कैसे करते होंगे, यह सोचकर ही ठंडी आह निकलने लगती है।

एक दिन ठंड शुरू होते ही पिताजी कहने लगे, "आज गजक लाएँगे ठंड में गजक खाने का अलग ही मज़ा है।"

मैंने कहा, "पिताजी आप से कुछ कहना है।"

वे बोले, "हाँ, कहो क्या बात है?"

"पिताजी आज आप गजक की जगह कुछ और ला सकते हैं?" 

"हाँ, हाँ कहो, क्या लाना है?" 

"पिताजी यहाँ से थोड़ी दूर एक झोपड़ी है। वहाँ पर एक अम्मा ठंड से ठिठुर रही है, उनके लिए एक रजाई ला दो। मुझे गजक नहीं चाहिए।"

मेरी बात सुनकर माँ की आँखों से आँसू निकल आए पिताजी ने कहा, "अरे वाह! अब तो आप समझने भी लगे हो। आज रजाई भी आएगी और गजक भी चलो तुम्हारे हाथों से अम्माजी को  देना।"

झोपड़ी के सामने गाड़ी रुकी, वह बाहर आ गई, "यह लो अम्मा रजाई और मिठाई।" 

अम्मा ने अतिथि के आगे झोली फैला दी, "मेरे बेटों ने मुझे घर से निकाल दिया और इस छोटी सी बेटी ने मुझे ठंड से बचा लिया।"

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

लघुकथा

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं