अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

पिता की अस्थियाँ

पिता,
बस दो दिन पहले
आपकी चिता का
अग्नि-संस्कार कर
लौटा था घर ....
माँ की नज़र में
ख़ुद अपराधी होने का दंश
सालता रहा ...
पैने रस्म-रिवाजों का
आघात
जगह जगह,बार बार
सम्हालता रहा ....

आपका बनाया
दबदबा, रुतबा, गौरव, गर्व
अहंकार का साम्राज्य,
होते देखा छिन्न-भिन्न,
मायूसी से भरे
पिछले कुछ दिन...
खिंचे-खिंचे से चन्द माह,
दबे-दबे से साल
गुज़ार दिये
आपने
बिना किसी शिकवा
बिना शिकायत
दबी इच्छाओं की परछाइयाँ
न जाने किन अँधेरे के हवाले कर दीं

एक ख़ुशबू
पिता की
पहले छुआ करती थी दूर से
विलोपित हो गई अचानक
न जाने कहाँ ...?
न जाने क्यों मुझसे अचानक रहने लगे खिन्न

आज इस मुक्तिधाम में
मैं अपने अहं के 'दस्तानों' को
उतार कर
चाहता हूँ
तुम्हे छूना ...
तुम्हारी अस्थियों में,
तलाश कर रहा हूँ
उन उँगलियों को
छिन्न-भिन्न, छितराये
समय को
टटोलने का उपक्रम
पाना चाहता हूँ एक बार ...
फिर वही स्पर्श
जिसने मुझे ऊँचाईयों तक पहुँचाने में
अपनी समूची ताक़त
झोंक दी थी
पता नहीं कहाँ कहाँ झुके थे
लड़े थे ....
मेरे पिता
मेरी ख़ातिर .... अनगिनत बार

मेरा बस चले तो
सहेज कर रख लूँ तमाम
उँगलियों के पोर-पोर
हथेली,समूची बाँह
कंधा ...उनके क़दम ...
जिसने मुझमें साहस का
दम जी खोल के भरा

पिता
जाने-अनजाने
आपको इस ठौर तक
अकाल, नियत समय से पहले
ले आने का
अपराध-बोध
मेरे
दिमाग़ की कम्ज़ोर नसें
हरदम महसूस करती रहेंगी।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी

दोहे

ग़ज़ल

कविता

नज़्म

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं