अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य ललित कला

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

पिता को समर्पित हाइकु

1.
पिता का जाना
जीवन अस्त-व्यस्त
आँधी का आना।
 
2.
पिता जो चले
प्राणों की पीड़ा घनी
विछोह छले।
 
3.
पिता जो गए
शून्य में ताकें नैन
पथरा गए ।
 
4.
पिता की छाया
दुख ताप निकट
कभी न आया।
 
5.
पिता का क्रोध
परम सत्य-बोध
सदा कराता
 
6.
पिता का ध्येय
बाधा से लड़ सुता
होवे अजेय।
 
7.
पिता की याद
जैसे जल-प्रपात
भादों की रात
 
8.
निशा भी रोए
नभ को जब हेरूँ
पिता को टेरूँ।
 
9.
पिता हैं ईश
स्वप्नों में भी सुख का
बाँटें आशीष।
 
10.
पिता हैं फूल
मेरे हेतु बिखरे
चुभें न शूल।
 
11.
पिता हैं बुद्ध
दु:ख-निवृत्ति हेतु
नित्य प्रबुद्ध।
 
12.
पिता हैं कल्कि
क्षमा ही नहीं बल्कि
उद्धार करें।
 
13.
पिता हैं गीत
सदा गुंजायमान
मधु-संगीत।
 
14.
पिता हैं पेड़
सहें हवा की मार
शाखों से प्यार।
 
15.
पिता अडिग
झंझावात जानते
लोहा मानते।
 
16.
पिता प्रसून
उड़ेलते सुवास
उत्फुल्ल-श्वास।
  
17.
पिता हैं कृष्ण
करें जीवन-प्रश्न
पल में हल।
 
18.
पिता के जाते
विदा हो गए सभी
रिश्ते औ नाते।

19.
ले काँधे घूमे
नदी-गिरि-अरण्य
पिता हैं धन्य।
 
20.
प्रदीप्त-पंथ
पितु-प्रेम-प्रदीप्ति
आभा अनंत।
 
21.
पिता सैनिक
ड्योढ़ी पर तैनात
दिन या रात।
 
22.
पिता हैं वीर
लड़ें संताप-युद्ध
कष्टों पे क्रुद्ध।
 
23.
पिता विजेता
बाधाएँ छोड़ें रण
छू के चरण।
 
24.
पिता हैं भीष्म
सुता-रक्षा-प्रतिज्ञा
सचेत-प्रज्ञा।
 
25.
पिता हैं रुद्र
दुख-रिपु संहारी
त्रिशूलधारी।
 
26. 
पिता दधीचि
किया सर्वस्व दान
सुत-कल्याण।
 
27.
पिता हैं राम
रावण से संग्राम
जीत ही आए।
 
28.
पिता आरोही
लाँघ हर पत्थर
चढ़े शिखर।
 
29. 
पितु-आशीष
विघ्न-समक्ष शीश
झुकने न दे।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

15 अगस्त कुछ हाइकु
|

आओ मनायें सारे मिल के साथ दिन ये शुभ  …

28 नक्षत्रों पर हाइकु
|

01. सूर्य की पत्नी साहस व शौर्य की माता…

अतृप्त मन
|

धोखा ही खाया, मन ये सिरफिरा, फिर से गिरा।…

अपनी भाषा
|

अपनी भाषा आत्म ज्ञान का स्रोत गले लगायें…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता - हाइकु

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं