अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

प्रतिशोध की अग्निपरीक्षा

भोर लाल सराबोर हुई
मिट्टी भभक रही कल से
नाभि का अमृतकलश भी
फोड़ा जाएगा छल से,
पाप-पुण्य से  सजग हैं
ईर्ष्या से मूर्च्छित सब हैं
नाश से बाधित विवेक है
मृत्यु के सेवक सब हैं।


सूरज हर क्षण जलता क्यों है
चाँद इतना शीतल क्यों है
वर्षा बाधित हैं कर्मकांड
धर्मराज मौन क्यों तब हैं।


काटो सबके सर को धड़ से
जो बोलेगा उसको जड़ से
आँख तनिक भी खुल जाए जो
तुरंत उठा दो इन्हें भूतल से।
प्रतिशोध अब धधक रहा है
वसुधा के प्रत्येक कण से
है अग्निदेव की अग्निपरीक्षा
प्रतिपल सीता के तप से।


नाश जगह लेगा अमृत की
वक्षस्थल बींधे जाएँगे ,
चीरहरण स्वयं करेंगे पांडव
कौरव भी मज़े उठाएँगे।


व्याकुलता कृष्ण को होगी तब
और श्रीराम पतित हो जाएँगे।
कायर कहलाएँगे वीर पुरुष
तब राक्षस महान बन जाएँगे।
वसुधा को तुच्छ कहा जाएगा
ममता को मृत माना जाएगा,
दश आनन वाले बनेंगे सब
किंतु  रावण तब पछताएगा।


कौशल्या भी चिंतित होंगीं
गंगा पर पाप चढ़ेगा सब
गुरु द्रोण भी कुंठित होंगे
अर्जुन से शिष्य रोएँगे तब।


इतिहास गवाह बन जाएगा
भूगोल बदलता जाएगा
ग्रहों की दिशा भी बदलेगी
श्मशान नज़र बस आएगा।
यह होगा केवल अंतिम तक ही
तब क्रोध प्रतिशोध भी जागेगा
धूमिल होगी जब छवि धरा की
ब्रह्मास्त्र गांडीव पर तन जाएगा॥

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं