अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

प्रीति अग्रवाल ’अनुजा’ - 1

1.
सोचे समझे बिना
करें सब पे यक़ीं,
अच्छे लोगों की भी
कुछ आदतें बुरी हैं!
2.
हर ख़ुश दिखने वाले में
ख़ुशी नहीं होती . . .
जैसे,
हर ज़िंदा शख़्स में
ज़िन्दगी नहीं होती!
3.
यूँ उठती हैं लहरें
मानो छू लेंगी चाँद . . .
भरम में जीने वालों की
कमी तो नहीं!

4.
गुज़रते वक़्त के साथ
हम भी गुज़र जाएँगे . . .
सफ़र पूरा तभी होगा
जब,
आगे सफ़र पे जाएँगे!
5.
टूटे दिल का ये दर्द
भला ज़ाया क्यों हो,
चलो इसपे कोई
ग़ज़ल आज कह दें।

6.
है ये कैसा शहर
कि यहाँ पर सभी,
सब को जानते तो हैं
पर पहचानते नहीं!
7.
ख़ुशियाँ,
किसी की मोहताज नहीं,
ख़ुश्मिज़ाजी तो फ़ितरत है
या तो है . . .
या नहीं . . .!
8.
फ़ासले हम भला
तय करते, भी तो कैसे . . .
रास्तें ख़ुद ब ख़ुद
मुड़ते चले गए . . .।
9.
चाहे गीत लिखूँ मैं
या कोई ग़ज़ल,
ज़िक्र तेरा ही होगा
अंजाम भी वही . . .!
10.
दरया ए इश्क़ है
ये बहा के रहेगा . . .
इसे कब फ़िक्र
कोई क्या कहेगा . . .!

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

तेरी उदासी का सबब जानता हूँ
|

तेरी उदासी का सबब जानता हूँ मैं प्यार का…

पुष्पा मेहरा - 1
|

१. आने दो रोशनी  अँधेरे में कोई भी…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता - क्षणिका

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं