अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

क़िस्मत (नवल किशोर)

पूनम की रात में,
जब खिला हो चाँद,
अपने पूरे आकार में,
उसकी मद्धिम रजत ज्योति से,
चहक जाती है धरती,
जगमगा उठता है आसमान,
और उस पर काले बादलों की,
स्याह परछाई से खिल उठता है,
धवल चेहरा उसका।


कभी नाज़ आता है,
बादल की क़िस्मत पर,
कितना मोहक है ये,
रूप इस स्याह का,
ज्यों रजतमुखी श्यामवर्णा ने ओढ़ ली हो,
स्वर्णमयी सुनहरी चादर,
और तब बिखरती है,
एक अनोखी छटा इस धरती पर।


कभी ईर्ष्यावश चित कहता है,
रुक जाओ बादल,
अब हमारी बारी है,
है अरमान हमारा भी,
चाँद की परछाई बन,
उसके मुख का शृंगार बनें,
सौंप निज अस्तित्व उसे,
उसके गले का हार बनें।


कभी मन विचारता है,
वह ले नहीं सकता जगह,
हवा में बहते बादलों की,
क्योंकि वह तो मानव है,
नहीं उगे हैं पर उसके,
जो स्वच्छदंता से उड़ सके,
ऐसे भी हम मानवों ने,
कतर रखे हैं पर अपने,
ताकि हम बादल न बन सकें,
आजीवन मनुष्य बन,
अतृप्तता का पर्याय बन सकें,


असंख्य प्रश्नों को,
हृदय में आत्मसात कर,
रवाना हो सकें उस ओर,
जहाँ चाँद खिलता है हमेशा,
अपने पूरे आकार में,
और तब शायद हम सक्षम हों,
अवारा बादलों को हटा,
चंद्रमुख को निहार सकें,
तब तक चाँद को यूँ ही,
देखते रहना हमारी क़िस्मत है,
वक़्त के आगे घुटने टेक,
ग़ुलामी करना हमारी फ़ितरत है।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

ललित निबन्ध

सामाजिक आलेख

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं