अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

क़ुदरत की चिट्ठी 

हे! इंसान हे महामानव!
तुम्हें एक बात कहनी थी।
मैं क़ुदरत, लिख रही हूँ,
आज एक ख़त तुम्हारे नाम।
मैं ठहरी तुम्हारी माँ जैसी,
जो अप्रतिम प्यार लुटाती।
बिल्कुल निस्वार्थ, निश्छल,
जो बदले तुमसे कुछ न चाहती। 
परंतु आज मैं लिख रही हूँ,
तुमको एक दर्द भरी दास्तान,
यही है मेरी अंतिम चिट्ठी।
सुनो मानव! इक बात सुनो,
एक दुनिया तुम्हारी भी है,
तो एक दुनिया मेरी भी।
मैं अपनी दुनिया तुम पर लुटाती,
लेकिन बदले में तुमसे,
केवल अत्याचार ही पाती,
तिरस्कार ही पाती।
फिर भी मैं यही चाहती 
कि मैं जब जब मरूँ, 
तब तब पुनः देह धारण करूँ।
तुम्हारे लिए फिर बन सकूँ,
नदी, धरा, पेड़ पौधे, पत्थर।
मोक्ष की कामना भी नहीं मुझे। 
न मुक्ति की कोई चाह।
हे! मानव सुन ले इक बात,
कुछ पल के लिए मेरे प्यार को,
मेरे लाड़ दुलार को सोच।
फिर चला मुझ पर कुल्हाड़ी,
मिटाता चल मेरा वजूद।
दिन-ब-दिन क़त्ल कर मेरे अस्तित्व का।
तहस-नहस कर मुझ प्रकृति को,
लेकिन देख ले भयावह अंजाम।
आये दिन महामारियाँ, भूकम्प,
क़हर, जल प्रलय, मानव विनाश।
अभी भी ज़्यादा कुछ नहीं बिगड़ा,
सँभल जा ज़रा, सुधर जा,
दया कर मुझ पर, मत सता।
मुझ बेज़ुबान की ख़ामोशी सुन। 
हे! मानव  हे! इंसान  हे! बुद्धिमान।
 
— तुम्हारी क़ुदरत

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

528 हर्ट्ज़
|

सुना है संगीत की है एक तरंग दैर्ध्य ऐसी…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

लघुकथा

स्मृति लेख

हास्य-व्यंग्य कविता

दोहे

कविता-मुक्तक

गीत-नवगीत

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं