अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

रात के विरुद्ध

क्या है
इस स्याह रात में
कि हर औरत से कहा जाता है
वह डरे इससे
और बंद हो जाए घर के भीतर
निपट अकेली एक / दमघुटी रात की तरह

 

औरत के माथे पर ही क्यों लिखे जाते हैं
रात की स्याही से 
तमाम निषेध

 

लाँघकर निषेध द्वार
बढ़ते जब कोई क़दम
रात का डर बन
खड़ा हो जाता है कोई पुरुष
काँख में दबाए पूरा तंत्र
औरत की त्वचा छीलने / लीलने को तैयार
तमाम खूंखार आवाज़ें

 

क्या है इस रात में
जो दिन के सम्मानित 
बन जाते हैं यहाँ दुःसाहसी
रोकने लगते हैं रात होते ही 
औरत का रास्ता

 

आख़िर क्या करती हैं
सड़क किनारे आँख फाड़े खड़ी
दकदक करती ये रोशनियाँ!
इन रोशन आँखों के नीचे ही
कुछ डरावने पुरुष 
डरावनी बड़ी गाड़ियों में 
डरावनी सुनसान सड़कों पर
निकल पड़ते हैं / कुछ अकेली निडरताओं के
जघन्य शिकार के लिए

 

सोचा तो यह था
इन डराने वालों के विरुद्ध
ये मंचासीन ज़ुबानें / ये पदासीन कंधे
नहीं रहेंगे चुप/ नहीं देंगे साथ इनका 
डरेंगी नहीं अब औरतें!
चुप नहीं कराई जा सकेंगी
इज़्ज़त और चरित्र हनन जैसे 
लिजलिज करते शब्दों से 

 

देखो निकट से
इन कंक्रीट समाजों को
यहाँ दृश्य बदले नहीं अभी! 

 

यह भी पता नहीं अभी मुझे
इन दृश्यों के विरुद्ध
एक बार मुँह खोलकर
फिर ख़ामोश काली रात ओढ़कर
कब तक ज़िंदा रहेगा यह आक्रोश!

 

आत्मा का बोझ
निष्क्रिय शब्दों में बहाकर 
बुद्धिमत्ताओं की गहराती सुस्ती ने
तमाम लड़ाइयों से बना ली है दूरी
देखो तो
कैसी ठंडी /नीली पड़ रही है देह
इन शब्दों की अब! 

 

(वर्णिका कुंडू का अर्द्धरात्रि में नेतापुत्र द्वारा रास्ता रोके जाने पर)

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

शोध निबन्ध

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं