अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

राज़ (संदीप कुमार तिवारी)

एक राज़ जो मेरे दिल में दफ़न है
सबसे कह दूँ कि तुमसे गिला करूँ?
बस अब बहुत हो चुकीं बेकार की बातें,  
तू मुझे भूल जा मैं भी ना तुम्हें मिला करूँ।
 
देख  ये वक़्त  ज़रूर  बीत जाएगा 
जो जगा है तेरा ज़मीर, सो जाएगा
ओ मग़रूर! अब तू याद किसे आयेगी? 
ओ मग़रूर! अब तुम्हें कौन याद आएगा?  
मुहब्बत का सौदा इतना आसां भी नहीं,
मेरा नाम लेकर ज़माना तुझे सताएगा ।
 
मेरे  लिए  तू  इबादत  हो  गई  थी
तेरी हरकतों की आदत हो गई थी
तू ही  बता अब मैं क्या करूँ? 
एक राज़ जो मेरे दिल में दफ़न है
सबसे कह दूँ कि तुमसे गिला करूँ?
 
दिल ख़ाली और मन सूना था।
तेरे ख़्वाब का झालर बुना था।
तब मेरे लिए ब्रह्मांड घूमा था–
जब तूने पहली बार चूमा था।
एक बात कहूँ! तेरे जाने के बाद-
अकेले कमरे में मैं देर तक झूमा था।
 
मन बना, तेरे पहलू में खो जाऊँ। 
तुझमें खोकर, मैं तेरा हो जाऊँ।
उफ़्फ़ ! ये आह का मैं क्या करूँ? 
एक राज़ जो मेरे दिल में दफ़न है
सबसे कह दूँ कि तुमसे गिला करूँ?
 
मिलना, बिछड़ना ख़ैर, ये सब तो रीत है!
पर हम शौक़िया बिछड़ें क्या यही प्रीत है? 
हारकर जीतना  बेशक सही है लेकिन,
मैं जीत के तुम्हें हारा ये कैसी जीत है?
ज़िंदगी के थपेड़ों ने तुम्हें दूर किया,
मैं जो दुहरा ना सका तू वही गीत है।
 
अपना दिल मैंने ख़ुद ही तोड़ दिया। 
तुम्हें छोड़ा औ’ दुनिया को छोड़ दिया।
कम्बख़्त पर उस 'राज़' का मैं क्या करूँ?
एक राज़ जो मेरे दिल में दफ़न है
सबसे कह दूँ कि तुमसे गिला करूँ?

✍️संदीप कुमार तिवारी

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

किशोर हास्य व्यंग्य कविता

कविता-मुक्तक

विडियो

ऑडियो

उपलब्ध नहीं