अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

राघवेन्द्र पाण्डेय मुक्तक 4

1.
कहीं पास तो और कहीं हम फ़ेल हुए
कहीं मिलाया मेल, कहीं बेमेल हुए
बीत गया जीवन फ़ितरत में यारो
कहीं ख़रीदा और कहीं ख़ुद सेल हुए

2.
झोंपड़ी में भी मैं घर होके जिया हूँ 
डर के साये में निडर होके जिया हूँ
हर वक़्त जीने के बहाने ढूँढ़ लेता हूँ
तलहटी में भी शिखर होके जिया हूँ

3.
उनके लिए जीवन हमारा तर्क बस है
अपने लिए जीवन हमारा नर्क बस है
वो अपने आरज़ू सँभालते हैं, हम आँसू अपने
हमारी ज़िंदगी में कुल यही तो फ़र्क बस है

4.
पद-प्रतिष्ठा और धन-दौलत न चाहूँ, यार मेरे
है नहीं ख़्वाहिश कोई मुझको ख़ज़ाने की
देश पर सब कुछ निछावर कर सकूँ, यह प्रण लिया था
उम्र थी जब खेलने की और खाने की

5.
हो न हो यह ज़हर हो जिस पर लुभाए जा रहे हम 
सब्जियाँ जो टोकरी में इतनी ताज़ी हैं
नाम चुनकर रख लिया ‘आदर्श’ तो समझो कि
इसके पीठ पीछे कुछ न कुछ फिर कलाबाज़ी है 

6.
इधर घी-दूध खा-पीकर चला जिम में युवा होकर
दिखाने के लिए सबको, मसल तैयार करता है
उधर करके अथक श्रम, खेत में अपना बदन बोकर
कृषक सबके लिए अपनी फ़सल तैयार करता है

7.
आदमी का चेहरा आज कैसा है
वाह रे, अपना समाज कैसा है
देश का सर जिसने झुकाया, शर्मसार किया
उसके ही सर पे ये ताज कैसा है 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

किशोर साहित्य कविता

कविता-मुक्तक

गीत-नवगीत

ग़ज़ल

कविता

अनूदित कविता

नज़्म

बाल साहित्य कविता

हास्य-व्यंग्य कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं