अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

राजेन्द्र गौतम - 1

कुछ दोहे इस दौर के, कुछ उस युग की बात
कहें सुने शायद कटे, यह अंधियारी रात

 

चिड़िया के दो बोल हैं, वेणी के दो फूल
कह छुपा रख दूँ इन्हें, हो न सकें जो धूल

 

जीवन को महका गए वेणी के जो फूल
उनकी यादों की भरी अब कमरे में धूल

 

कल सपने में मिल गया वह बचपन नादान
गाड़ी की धकधक सुने धर पटरी पर कान

 

बीते बरस हजार हैं लेकिन अब तक याद
जंगल की झरबेर का खट्टा-मीठा स्वाद

 

चल कर रेगिस्तान से, हम भी पहुँचे खूब
पाँवों को झुलसा गई, रिश्तों की मृदु दूब

 

अपना सब कुछ फूँक हम कब के हुए फ़कीर
तुम्हें न कुछ भी दे सके, क्या अपनी तकदीर

 

धर कर नभ की देहरी, चंदन, अक्षत, दूब
सूरज सब को नमन कर, गया सिंधु में डूब

 

भीगी आँखें ताकते दूर तटों से फूल
खंड-खंड जलयान था, डूब गए मस्तूल

 

रिक्त हुआ मन-पात्र है, या नीला आकाश
ग्रह-नक्षत्रों को मिली, जीवन भर की प्यास

 

नीली काया वक्त की, लेकिन एक न घाव
डसता पर कब दिखता, काला नाग तनाव

 

खेत प्यास से जल रहे, झुलसे सब सीवान
पत्थर के गणदेवता, क्या देते वरदान
 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अर्थ छिपा ज्यूँ छन्द
|

बादल में बिजुरी छिपी, अर्थ छिपा ज्यूँ छन्द।…

अख़बार
|

सुबह सुबह हर रोज़ की,  आता है अख़बार।…

अफ़वाहों के पैर में
|

सावधान रहिये सदा, जब हों साधन हीन। जाने…

ऋषभदेव शर्मा - 1 दोहे : 15 अगस्त
|

1. कटी-फटी आज़ादियाँ, नुचे-खुचे अधिकार। …

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

साहित्यिक आलेख

दोहे

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं