अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

रमधनिया 

रमधनिया ने ठान लिया था कि वो अपने शराबी-जुआरी पति को आज सबक सिखा कर ही मानेगी। बेचारी रमधनिया मध्यप्रदेश से चलकर आगरा मज़दूरी करने आई थी। सुबह से शाम तक खेतों में आलू बीनती तब जाकर प्रतिदिन सौ-सवा सौ रुपये कमा पाती। साथ में दो बेटियाँ भी थीं, इसलिए खाने-पीने का ख़र्च भी ज़्यादा था। पति काम तो करता था पर सारी कमाई जुए-शराब में उड़ा देता और ऊपर से रमधनिया के कमाये पैसों पर भी हक़ जमाता।

देर रात टुन्न होकर रमधनिया का पति आया तो दोनों में झगड़ा हो गया। झगड़ा इतना बढ़ गया कि झगड़े की ख़बर ठेकेदार को पता चल गई। उसने तुरन्त सौ नं. पर सूचना दी, कुछ ही समय बाद सौ नं. की गाड़ी आ गई। पुलिस आने से झगड़ा ख़त्म हो गया और पुलिस ने दोनों का राज़ीनामा करा दिया परन्तु राज़ीनामे के बदले दो हज़ार रुपए रमधनिया को गँवाने पड़े। वैसे दो हज़ार बचाने के लिए रमधनिया ने उन पुलिस वालों के आगे ख़ूब हाथ-पैर जोड़े, लेकिन उन निर्दइयों को तनिक भी तरस नहीं आया। सच भी है वर्दी पहनकर कोई देवता नहीं बन जाता।

रमधनिया अपने तिरपाल के बने झोपड़े में पड़ी-पड़ी सोच रही थी, काश वो अपने शराबी पति से न लड़ती और हज़ार- पाँच सौ उसे दे देती तो कम से कम कुछ पैसे तो बच ही जाते...।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

पुस्तक चर्चा

लघुकथा

बाल साहित्य कविता

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं