अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

रीढ़ की हड्डी 

चाय की चुस्की लेते हुए पापा ने पूछा, "नेहा कौन सा विषय सोचा नवीं कक्षा के लिए, साईंस या कॉमर्स?” 

कुछ सोचते हुए नेहा बोली, "पापा, सांईंस तो बिल्कुल नहीं। यह काट-पीट और ख़ून देखना मेरे बस की बात नहीं। मैं तो कॉमर्स ही लूँगी। कम से कम कल ठाठ से बैंक में ऑफ़िसर तो बन सकूँगी।"

पास बैठी मम्मी और दादी उसकी बात सुन कर खिलखिला उठीं। 

प्यार से मुस्कुरा कर नेहा का कंधा थपथपाते हुए पापा बोले, "ठीक है बेटा, जिस विषय में दिलचस्पी हो वही लेना चाहिए। और क्या-क्या नया होगा नवीं कक्षा से? " 

आँखों को ऊपर तानते हुए झट से बोली, "पापा, नवीं कक्षा में संगीत और एन.सी.सी भी होती है।आप इनमें से कोई एक को चुन सकते हैं। मेरी बहुत सी सहेलियाँ एन.सी.सी ले रही हैं, मैं भी लेना चाहती हूँ, क्या मैं ले लूँ?" 

पापा कुछ कहते उससे पहले ही दादी बोल उठी, "एन.सी.सी लेके क्या सीखेगी? तन कर चलना और बंदूक चलाना, यही ना। भला लड़कियों को कब यह सब शोभा देता है। संगीत सीख, जीवन में कुछ काम आएगा। औरत की ज़ात तो दबी ढकी ही अच्छी लगती है। वह अपनी पलकें और कंधे ज़रा झुका कर चले तो जीवन भर रिश्ते-नाते और घर-गृहस्थी सुर में रहती है, समझी।" 

माँ की अवज्ञा करना नहीं चाहते थे इसलिए बिना कुछ बोले ही पापा उठ कर चले गए। मम्मी की ओर गुज़ारिश भरी निगाहों से नेहा ने ताका तो बेबस मम्मी ने भी आँखों से समझा दिया कि सम्भव नहीं। 

उदास सी नेहा अपने कमरे में चली गई। 

पढ़-लिख कर नेहा बैंक में नौकरी करने लगी। देखते-देखते घर-गृहस्थी वाली भी हो गई। चालीस की उम्र पार करते-करते काम के बोझ से ऐसी दबी कि उसकी कमर जवाब देने लगी। 

असहनीय पीड़ा के चलते डाक्टर को दिखाया तो डाक्टर बोला, "आपकी रीढ़ की हड्डी में कुछ गैप आ गया है। और दो-एक हड्डियाँ अपने स्थान से थोड़ी सी खिसक भी गई हैं। पीड़ा से जल्दी छुटकारा पाने के लिए आप सुबह-शाम व्यायाम करो और ज़रा तन कर चला करो। झुक कर चलना रीढ़ के लिए घातक होता है।" 

डॉक्टर की बात सुन कर नेहा ने लम्बी साँस ली। फ़ीस के रुपए उनके हाथ पर रखते हुए बोली, “कह तो आप ठीक ही रहे हैं डॉक्टर साहब लेकिन अफ़सोस! तन कर चलने का हक़ तो आधी आबादी को ही मिला है। औरत ज़ात क्या जाने रीढ़ की हड्डी, उसे तन कर चलने की इजाज़त ही कहाँ है? आप हड्डी खिसकने की बात करते हैं, हमारे तो सारे सपने और इच्छाएँ भी खिसक जाती हैं। सच पूछो तो ऐसी सलाह यदि डॉक्टर बेटी के जन्म के समय उसके माता-पिता को दें तो शायद हम औरतों की रीढ़ भी सीधी रह सके।" 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

लघुकथा

कहानी

कविता - हाइकु

पुस्तक समीक्षा

पुस्तक चर्चा

कविता-माहिया

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं