अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

रिश्ते (डॉ. सुशील कुमार शर्मा)

अस्पताल में मोहन ने मास्टर जी के बिस्तर के नीचे अपनी चद्दर बिछायी और बैठ गया।

"मोहन तुम सो जाओ जब ज़रूरत होगी बुला लूँगा," मास्टरजी ने कमजोर आवाज़ में कहा।

"आप चिंता न करें मुझे नींद नहीं आ रही है," मोहन ने मास्टर जी के माथे पर हाथ रखते हुए कहा।

मास्टर जी की आँखों में आँसू थे। बड़ा बेटा जर्मनी में, छोटा बेटा अमेरिका में करोड़ों के आसामी और यहाँ मास्टरजी अकेले अस्पताल में असहाय किरायेदार के साथ।

मोहन की नौकरी छूट गयी थी दो महीने से किराया नहीं दिया था। मास्टर जी ने उससे कहा था –

"मोहन जब तक तुम्हे कोई काम नहीं मिल जाता तब तक तुम घर में रह सकते हो।"

मोहन ने कृतज्ञता से मास्टर जी के पैर छुए तब से क़रीब एक साल तक मोहन बग़ैर किराये के ही मास्टर जी के साथ रह रहा है।

कल रात जब अचानक मास्टर जी की तबियत ख़राब हुई तो मास्टर जी की पत्नी दौड़ती हुई मोहन के पास पहुँची थीं।

"मोहन बेटा जल्दी चलो इनकी तबियत बहुत ख़राब है," मास्टर जी की पत्नी ने रोते हुए कहा।

"आप घबराइए मत; मैं हूँ न चिंता की कोई बात नहीं है," मोहन ने मास्टर जी की कार निकाली और आधी-रात को वो भोपाल के लिए निकल गए।

तभी कमरे में डॉक्टर ने प्रवेश किया मोहन ने पूछा, "डॉक्टर साहब अब इनकी तबियत कैसी है?"

"बहुत बेहतर अगर दो घण्टे लेट हो जाते तो बचाना मुश्किल था," डॉक्टर ने मुस्कुराते हुए कहा।

तभी दोनों बेटों के फोन आये। 

"पिता जी पैसों की चिंता मत करना हम पैसे भेज रहे हैं।"

"बेटा मुझे पैसों की ज़रूरत नहीं। बेटे की जरूरत थी जो मेरे पास है," मास्टर जी ने मुस्कुराते हुए मोहन को देखा और फोन रख दिया।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

सामाजिक आलेख

लघुकथा

व्यक्ति चित्र

गीत-नवगीत

दोहे

कविता

साहित्यिक आलेख

सिनेमा और साहित्य

कहानी

बाल साहित्य कविता

कविता-मुक्तक

किशोर साहित्य नाटक

किशोर साहित्य कविता

ग़ज़ल

ललित निबन्ध

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं