अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

सब कै यह रीती

राघव जी की नींद यूँ तो पाँच बजे उचट गई थी लेकिन उन्होंने बिस्तर पर लेटे रहना मुनासिब समझा। सरकारी सेवा से रिटायर हुए पूरे पंद्रह वर्ष बीत चुके थे। पहले के कुछ वर्ष पोते-पोती की देखभाल में बीते लेकिन अब उनका पोता-पोती, दोनों किशोरावस्था की दहलीज़ पर थे। उन्हें राघव जी के बजाय अपने सखा-सखियों के साथ वक़्त बिताना अच्छा लगता था। पत्नी को गुज़रे तो आठ वर्ष बीत चुके थे। बेटा-बहू दोनों नौकरी करते थे। उनके पास तो अपने लिए ही वक़्त नहीं होता, वे राघव जी से कभी-कभार बात कर पाते थे। पत्र-पत्रिकाओं को पढ़ने और टीवी देखने से भी अब राघव जी ऊब चुके थे। कॉलोनी में उनके जिन दो बुज़ुर्गों से मित्रता थी, वे भी चल बसे थे।

ख़ैर, कभी यदि राघव जी किसी से बातचीत करने की कोशिश करते तो वे तुरंत ही समझ जाते थे कि उस व्यक्ति की उनमें या उनकी बातों में कोई रुचि नहीं है। ऐसी स्थिति में राघव जी को पुराने दिन याद आ जाते थे। वह वक़्त भी था जब घर या बाहर उनसे मिलने के लिए लोग इंतज़ार करते थे। ज़िला रोज़गार अधिकारी थे। कोई न कोई किसी बहाने अपनी फ़रियाद लेकर उनके घर तक पहुँच जाता था।

बहरहाल, इधर वे रिटायर हुए और उधर लोग उनसे कन्नी काटने लगे। अब तो उन्हें न तो कोई फोन करता है और न कभी उनसे मिलने आता है। राघव जी बिस्तर पर लेटे हुए उन उपायों पर विचार करने लगे जिनसे इस एकाकीपन से वे छुटकारा पा सकें। मन ही मन उन्होंने कुछ उपाय सोचे और फिर सुबह सात बजे वे बिस्तर छोड़कर अपने दैनिक कर्मों से निपटने लगे। चाय-नाश्ता करते-करते नौ बज गए तो उन्होंने अपने एक कनिष्ठ अधिकारी को फोन किया। जैसे ही वे कुछ बोलते, उधर से वह कनिष्ठ अधिकारी बोला, "सर, मैं फ़ुर्सत मिलते ही आपको फोन करूँगा।" इतना कहकर उसने फोन काट दिया। भारी मन से उन्होंने कुछ देर बाद एक ऐसे इंसान को फोन किया जिसे वे अपना ख़ास मानते थे। उसने फोन मिलने पर 'बैटरी' का बहाना बनाकर फोन काटा। अपने मोबाइल को जेब के हवाले कर राघव जी सोचने लगे-

"सुर नर मुनि सब कै यह रीती। 
स्वारथ लागि करहिं सब प्रीति॥"

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

लघुकथा

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं