अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

सदानीरा ही रही मैं

मूल लेखक: विद्या पैनिकर (प्रपैचुअल वेटनेस)

Perpetual Wetness
First published in Indian review journal: http://indianreview.in/perpetual-wetness-vidya-panicker/

 

पसीने के
मोती में
चमकते;
श्रांत- क्लांत
मन में
तिरते
दूध के रिश्ते…………
ज़िन्दगी की
भागम-भाग में
नहलाना,
सजाना,
खिलाना,
पिलाना
मनुहार से!
इठलाती
नन्हीं
गुड़िया को;
फिर भेजना
पाठशाला में
ठुमकती
दुलारी को;
गोदी में गुड़िया थी
भीग जाना कपड़ों का
गंदा हो जाना बार-बार
पर
छि! छि! की बू नहीं थी उसमें
बढ़ जाती थी सुंदरता उनकी
महसूसती थी मैं
ख़ुद को भाग्यशाली!
* * * *
बदहवास सी
भागती
धर्म क्षेत्र
‘कुरुक्षेत्र’
दफ्तर की
राह पर;
पहुंचती हमेशा ही देर से
तयशुदा समय के बाद……..

 

गीले केश
कभी नहीं
सूख पाते;
टपकता
शीतल जल
गंगाधार सा……
चेहरे-
शरीर के
हावभाव में
झलकता
आशंकित मन
सहमी सी
धड़कन
कुछ कहती सुन सांय-सांय
भीतर वह होती गुंजायमान
* * * *
जीवन के
अंतिम मोड़ पर
वही
ठुकराई मां के
आंसू
झरोखों में;
लुढ़कते गालों पर
फिर गर्दन पर
भीगता
आंचल;
जहां
पली थी
नन्हीं कली
लाडली
दुलारी
रानी
बिटिया!

 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अजनबी औरत
|

सिंध की लेखिका- अतिया दाऊद  हिंदी अनुवाद…

अनुकरण
|

मूल कवि : उत्तम कांबळे डॉ. कोल्हारे दत्ता…

अपनी बेटी के नाम
|

सिंध की लेखिका- अतिया दाऊद  हिंदी अनुवाद…

अपने मठ की ओर
|

अपने मठ की ओर  (पंजाबी कविता) लेखक…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

बात-चीत

अनूदित कविता

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं