अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

संदीप कुमार तिवारी - मुक्तक : 1

1.
हमें भूलने वाले तो मज़े से चैन के नींद सोते हैं 
क्या सितम है हम फिर भी प्यार के बीज बोते हैं 
वो जो उनके ख़ातिर हज़ार सपने देखे थे कभी 
कम्बख़्त वही आँखों से अब खून के आँसू रोते हैं 

2.
तेरी यादों में याद करता हूँ तेरी यादें 
वही भूली, वही बिसरी, वही बिछड़ी यादें 
मैं तेरी याद में कुछ ऐसे डूब जाता हूँ  
भूल जाता हूँ तेरी याद में अपनी यादें 

3.
कई लम्हें एक लम्हे में सिमट जाते हैं,
मेरी आँखों से कुछ मोती बिखर जाते हैं 
जब भी छाती है संगदिल तेरी यादों कि घटा 
बूँद बनके हम सावन में बरस जाते हैं 

4.
जिस्म की चाह नहीं दिल पुकारता है तुम्हें 
अब भी आजा ओ संगदिल पुकारता है तुम्हें 
बेवफ़ा तू नहीं, मैं ख़ुद ही अपना क़तिल हूँ 
तुम पे मरने को ये क़ातिल पुकारता है तुम्हें

5.
सिर्फ़ दिल तोड़ देते तो कोई बात नहीं होती 
ये कहते हैं कि प्यार में सौगात नहीं होती 
क्यूँ इश्क़ को भी मज़हबी बना देते हैं लोग 
अब कैसे बतायें आँसुओं की जात नहीं होती

6.
यार अब ये आदमी मजबूर कितना है 
चार दिन की ज़िंदगी में दस्तूर कितना है 
इक तेरी याद है जो जिस्म के क़रीब है 
एक तेरा जिस्म है की दूर कितना है

7.
ज़माने में तुम भी सरेआम हो जाओगे 
मुझे ख़रीदोगे और नीलाम हो जाओगे 
इश्क़ इबादत ही है, कोई तहज़ीब नहीं 
कर के तो देखो, बदनाम हो जाओगे

8.
बिछड़कर रूह नींदों से बता कैसे वो सोता है 
फूल को प्यार पत्थर से कहीं ऐसा भी होता है 
तुम्हारे अश्क भी साथी न मेरे काम आएँगे 
ये मेरा दर्द अपना है ख़ामख़ाँ तू भी रोता है

9.
देख तो लिया बाहर से, मेरे अंदर तो देखा ही नहीं 
अरे तुमने अभी दर्द के मंज़र को देखा ही नहीं 
दो बूँद आँसुओं को तुमने नदी का नाम दे दिया 
यार तुमने इन आँखों में समंदर तो देखा ही नहीं

10.
अंधों की तरह आँखें चार मत करना 
तपाक से तुम यूँ ही प्यार मत करना 
आजकल अब फूल ही चुभा करते हैं 
किसी मासूम शख़्स पे ऐतबार मत करना

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

नज़्म

बाल साहित्य कविता

गीत-नवगीत

कविता

किशोर साहित्य कविता

किशोर हास्य व्यंग्य कविता

कविता-मुक्तक

विडियो

ऑडियो

उपलब्ध नहीं