अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

सत्कर्म का फल

एक दिन अंबर नाम का ग्वाला सुबह दूध लेकर, बेचने को निकला। वह दूध बेचकर घर की ओर लौट रहा था कि अचानक उसकी नज़र रास्ते पर पड़े एक घायल इंसान पर पड़ी। अंबर उसके पास गया, वह बहुत बुरी तरह से घायल हो गया था, इसके शरीर से लहू बहे जा रहे थे, उसके सर पर चोट आई थी। अंबर ने झटपट उसे उठाकर अस्पताल पहुँचाया। डॉक्टर ने उस घायल का इलाज किया उसके सर पर मरहम-पट्टी की, जब उसे होश आया तो उसने पूछा, "मुझे यहाँ कौन लेकर आया? मुझे तो एक मोटर बाइक वाले ने धक्का मार दिया था।" उसके बाद उसे कुछ भी याद ना था।

 डॉक्टर ने अम्बर को बुलाकर उसके सामने खड़ा कर दिया और कहा इन्होंने तुम्हारी जान बचाई।

 घायल इंसान ने अपना नाम मनोज बताया, और अम्बर को बहुत-बहुत धन्यवाद दिया।

 मनोज को बेहतर स्थिति में देखकर अंबर वापस अपने घर लौट आया।

कुछ दिन बीते, अंबर रोज़ की तरह दूध बेचने जाया करता। बरसात के मौसम में, नदी में बाढ़ आ गई। अंबर नदी पार कर दूध बेचने जाता था। आज भी वह दूध लेकर नदी को पार करने की कोशिश ही कर रहा था, अचानक उसका पैर फिसला और वह ख़ुद को सँभाल ना सका। वह पानी में डूबने लगा, उसे तैरना भी नहीं आता था।

डूबते हुए उसकी नज़र मनोज पर पड़ी, उसने उसे मदद के लिए पुकारा, पर मनोज ने उसे कहा कि उसे तैरना नहीं आता। कुछ देर तक अंबर पानी में हाथ-पैर मारता रहा। पर किसी ने उसकी मदद नहीं की। मनोज भी जा चुका था।

अंबर ने डूबते हुए अपने इष्ट, शिव बाबा ज्योति स्वरूप को देखा, उसे लगा कि उसका आख़िरी समय आ चुका है।

उसने महसूस किया कि किसी ने उसे पकड़ा, गोताखोर नाविक उधर से गुज़र रहे थे, उन्होंने अंबर को डूबते देखा तो, उसे उठाकर अपने नाव पर ले लिया। अंबर का पेट फूल चुका था क्योंकि उसने नदी का बहुत सारा पानी पी लिया था।
उन गोताखोरों ने तत्काल उसका पानी निकाला तथा उसका उपचार किया।

अंबर की आँखें खुलीं तो उसने ख़ुद को एक नाव पर सुरक्षित पाया। उसे विश्वास नहीं हो रहा था कि वह जीवित है। गोताखोरों ने उससे उसका घर का पता पूछा, और उसे उसके घर तक पहुँचाया।

अंबर मन ही मन सोचने लगा कि मैंने मनोज को उस दिन बचाया पर उसने मेरी मदद नहीं की। लेकिन मेरे शिव बाबा ने मुझे उन गोताखोरों के द्वारा बचा लिया।

तभी आकाशवाणी होती है "अंबर हर मनुष्य के द्वारा किए गए कर्मों का हिसाब मेरे पास होता है। मनोज ने पिछले जन्म में तुम पर कुछ उपकार किए थे, इसी कारणवश इस जन्म तुमने उसकी मदद करके उस कर्ज़ को उतार दिया। परंतु तुम्हारे द्वारा किया गया एक सत्कर्म का मैं तुम्हें दस गुना लौटाता हूँ। इसलिए यह आवश्यक नहीं कि जिसकी तुम मदद करो वह भी समय आने पर तुम्हारी मदद करें परंतु मैं तुम्हारा पिता परमपिता परमेश्वर तुम्हारे द्वारा किए गए सत्कर्म का फल लौटाने का ज़िम्मेदार हूँ।

"जब तुम बच्चे अच्छा कार्य करते हो, तो तुम्हारी सुरक्षा और तुम्हारी ज़िम्मेदारी मेरी होती है। इसलिए सदा नेक कार्य करो, किसी से कोई उम्मीद ना रखो, उम्मीद रखो तो सिर्फ़ और सिर्फ़ परमात्मा पर। समय आने पर निश्चित रूप से तुम्हारी मदद करेंगे।"

यह सुनकर अंबर ख़ुशी से गद्‌गद्‌ हो गया उसकी आँखें भर आईं, और उसने परमपिता से वादा किया कि वह अपने जीवन में सदा नेक और अच्छे कार्य ही करेगा।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

 छोटा नहीं है कोई
|

इलाहाबाद विश्वविद्यालय के गणित के प्रोफ़ेसर…

अक़लची बन्दर
|

किसी गाँव में अहमद नाम का एक ग़रीब आदमी रहता…

आतंकी राजा कोरोना
|

राज-काज के लिए प्रतिदिन की तरह आज भी देवनपुर…

आत्मविश्वास और पश्चाताप
|

आत्मविश्वास और पश्चाताप में युद्ध होने लगा।…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

सांस्कृतिक कथा

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं