अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

शैतानी दिमाग़ के विपक्ष में खड़ा हूँ

मैं ख़ुश रहना चाहता हूँ

मैं हवा से बहुत नाराज़ हूँ कि उसकी मुझसे क्या दुश्मनी है
कि वहाँ ले जाती है जहाँ इतनी सड़ांध है
कि मक्खियाँ तक जाने से कतराती हैं


वहाँ एक बच्चा असमय बूढ़ा हो रहा है
और दो दिन पुरानी रोटियाँ तोड़ते हुए मुस्कुरा रहा है
और मैं विचलित हो जाता हूँ
और ख़ुश नहीं रह पाता हूँ


मुझे अपनी आँख पर बहुत ग़ुस्सा आता है
कि वह ऐसी चीज़ें क्यों देखती है मसलन एक पिता
अपनी बेटी की हत्या कर रहा है
कि वह एक विधर्मी लड़के से प्रेम करती थी


वह जानती है कि मैं ग़ुस्से से भर उठता हूँ
और उसी आँख से ख़ून टपकाने लगता हूँ
और ख़ुश नहीं रह पाता हूँ


मैं एक बार फिर सोचता हूँ कि इन झँझटों से ख़ुद को अलग रखूँ
क्या फ़र्क़ पड़ता है वाले मुहावरे को दुहराते हुए
भजन-कीर्तन में मन लगाऊँ


और मथुरा बाँके विहारी के दर्शन करने जाता हूँ
और दुखी हो जाता हूँ। वहाँ विधवाओं के शोषण को लेकर
अनाप-सनाप बड़बड़ाने लगता हूँ
सभी विधवाओं में अपनी बुआ को देखता हूँ
जो कुछ साल पहले वहीं पर किसी ख़तरनाक
बीमारी से मर गईं थीं


और मैं एक ईश्वरीय बाँसुरी के इतने टुकड़े करके
पैरों से मसलता हूँ कि पृथ्वी तक
काँप उठती है


एक बार पुनः ख़ुश होने के बारे में सोचता हूँ


सड़कों और इमारतों को थोड़ा खिसकाता हूँ
और रोशनी में अँधेरे की विलम्बित लय की चाल से
ख़ुद को अलग रखना चाहता हूँ


लेकिन कमाल है रख नहीं पाता हूँ

अँधेरे की चाल में इतनी राजनीति है कि उसकी आहट को
अपने कान के विरुद्ध खड़ा करता हूँ कि चिड़ियों को
और स्त्रियों को गुनगुनाने का
अवसर दे सकूँ


मैं आख़िर क्यों परेशान होता हूँ
कि कोई यह सब कैसे सोच सकता है कि
जानवर मरते हैं तो मरें
मनुष्य मरता है तो मरे
पेड़ मरते हैं तो मरें
पानी मरता है तो मरे


अब अगर किसी बढ़िया ग़लती से संवेदनशील हो गया हूँ तो
भुगतना तो पड़ेगा इतना तय है


मैं सचमुच इस समय इतना ख़ुश हूँ कि घोषित करता हूँ
कि शैतानी दिमाग़ के विपक्ष में खड़ा हूँ
और शब्दों की धार को पैना करने लगता हूँ

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं