अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

08 - शिशुपालन कक्षाएँ

14 अप्रैल 2003

यहाँ तो अप्रैल में भी गुलाबी ठंड सताती रहती है इसलिए एक स्वेटर या शॉल लटकाए ही रहती हूँ। रात में न मक्खी–मच्छर न पसीना। लिहाफ़ ओढ़कर एक बार सोई तो सुबह 7 बजे से पहले नींद नहीं टूटती। आज तो बहू –बेटे की अंतिम पेरेंटस क्लास है। मुझे ये नि:शुल्क कक्षाएँ बहुत रोचक लगीं।

प्रथम बार माँ–बाप बनने का सौभाग्य मिलने पर युवक-युवती को इस प्रकार शिक्षित किया जाता है कि वे कुशलता से अपनी संतान के पालन–पोषण का उत्तरदायित्व निभा सकें। राज्य की ओर से जगह-जगह स्वास्थ्य केंद्र खुले हुए हैं। इनमें प्रतिमाह होने वाले बच्चे की विकास प्रक्रिया और माँ के शरीर में होने वाले परिवर्तनों से अवगत कराया जाता है। पति अपनी पत्नी के कष्टों को जानकार उसके प्रति पूर्ण संवेदनशील रहता है। आत्मीयता के एकात्मक क्षणों में समर्पण की पराकाष्ठा मधुर हो उठती है।

शिशु जन्म के पश्चात दुर्बल माँ की देखभाल अधिकांशतया पति को ही करनी पड़ती है। इसी कारण नौकरी पेशेवाली माँ को तो कई महीने की छुट्टियाँ मिलती ही हैं पर साथ में पिता को भी कुछ दिनों का सवैतनिक अवकाश प्रदान करना अनिवार्य है। यदि कंपनी की तरफ़ से छुट्टियाँ नहीं मिलतीं तो सरकार उनकी व्यवस्था करती है।

माँ को समय–समय पर अपने स्वास्थ्य की जाँच करने चाइल्ड–मदर यूनिट में जाना ही पड़ता है। उनके समस्त मेडिकल परीक्षणों की व्यय राशि का भार यहाँ सरकार करती है।

इस सुव्यवस्था में आधुनिक चिकित्सा संबंधी जागरूकता स्वाभाविक है। रक्त परीक्षण, ब्लड प्रेशर, डाईबिटीज़, संतुलित भोजन आदि शब्दों पर अज्ञानता की परतें जम कर नहीं रह गई हैं। नर्सें भी अपने पेशे के प्रति ईमानदार हैं। वे बहुत धैर्य से अनुभवहीन माँ को बच्चे से संबन्धित जानकारी देती हैं। इससे न जाने कितने भोले-भाले मुखड़े मुरझाने से बच जाते हैं।

अचरज समस्त सीमाएँ लाँघ गया जब मुझे यह जानकारी मिली की अस्पताल में प्रसव पीड़ा तथा शिशु जन्म के समय पति भी पत्नी के साथ–साथ प्रसव कक्ष या आपरेशन थियेटर में जाता है। लोगों की यह धारणा है कि पति की सहानुभूति व प्रेमपूर्ण स्पर्श से बच्चा सुविधा से होता है। औरत यह अनुभव करे कि जिस व्यक्ति के कारण उसको भयंकर प्रसव पीड़ा से गुज़रना पड़ रहा है वह उसके दुख के समय क़दम से क़दम मिलाकर चल रहा है तो बहुत सुकून मिलता है। एक और आश्चर्य! यहाँ बच्चे का नाल काटना बाप के लिए गर्व की बात है। लेबर रूम में प्रसव के समय फोटो भी खींची जा सकती है जो एल्बम की शोभा बढ़ाने में कामयाब होती है।

कितना अच्छा होता यदि मेरे देश भारत में भी मेडिकल साइन्स के क्षेत्र में इतनी सुविधाएँ देकर सावधानी बरती जाती। इससे पुरुष अपने बच्ची की जन्मधात्री के साथ अवश्य न्याय कर पाता।

क्रमशः-

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

01 - कनाडा सफ़र के अजब अनूठे रंग
|

8 अप्रैल 2003 उसके साथ बिताए पलों को मैंने…

02 - ओ.के. (o.k) की मार
|

10 अप्रैल 2003 अगले दिन सुबह बड़ी रुपहली…

03 - ऊँची दुकान फीका पकवान
|

10 अप्रैल 2003 हीथ्रो एयरपोर्ट पर जैसे ही…

04 - कनाडा एयरपोर्ट
|

10 अप्रैल 2003 कनाडा एयरपोर्ट पर बहू-बेटे…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

डायरी

लोक कथा

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं