अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

शिष्टाचार

वे दोनों पति पत्नी पहली बार उस विशाल मंदिर वाले छोटे से शहर में गए थे। अचानक अपने बचपन के मित्र को सामने देख वर्मा साहब बहुत खुश हुए। मित्र ने बहुत आग्रह से प्रेम विह्वल होकर उन्हें अपने घर लिवा लाया।

मित्र का छोटा सा फ्लैट... मिसेज़ वर्मा को इतना ऊबाऊ लग रहा था... "कैसे रहते हैं इस दबड़े में लोग" वह सोचती जा रही थी और उसके माथे से पसीने बहते जा रहे थे। हालाँकि मकान इतना छोटा भी नहीं था। मध्य आय वर्ग का तीन कमरों वाला मकान था। उन्होंने अच्छी तरह सुसज्जित करके भी उसे रखा था। मगर अपनी औकात से नीचे वाले लोग ‘कुछ लोगों’ को दबड़े में ही रहते नज़र आते हैं।

मित्र की पत्नी और दोनों बच्चे उनकी तीमारदारी में यूँ लग गए थे जैसे भक्त के घर भगवान... जैसे उद्धव का मथुरा आना। उनका प्यार, उनकी भावनाएँ छलकते हुए जाम की तरह दिखाई पड़ती थीं।

मित्र अपनी पत्नी एवं बच्चों से कह रहे थे, "ये मेरे बचपन के साथी... हम लोग मिडिल स्कूल से कॉलेज तक साथ ही पढ़े थे। बाद में ये बड़े ऑफीसर बनकर मुंबई चले गए...।" श्रीमती वर्मा को उनका यह बार-बार दोस्त कहना फूटी आँख नहीं भा रहा था। वह चुपचाप बैठी रही थी बुत बनकर। विदा होते समय बच्चों ने उनके पाँव छुए तो, "अरे यह क्या...?" कह कर थोड़ा पीछे हट गई थीं।

कुछ ही दूर जाने पर उनका सीनियर सहकर्मी सोनी मिल गया। उसका भी घर उसी शहर में था। वे उसके घर बिन बुलाए चले गए थे। विशाल कोठी। पोर्टिेको में बी.एम.डब्ल्यू. ...ड्राइंग रूम भव्य। झाड़फानूस.. ईरानी कारपेट...। मिसेज सोनी सामने आई तो ज़रूर मगर खातिरदारी नौकरों के ऊपर छोड़कर किसी अर्जेंट पार्टी में चली गईं। उनके दोनों बच्चे जो संभवतया बाहर जा रहे थे खेलने "हाय" करते हुए जाने लगे तो मिसेज़ वर्मा ने उनकी बलैया लेते हुए कहा था "कितने शिष्ट हैं ये बच्चे।"

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कहानी

कविता

लघुकथा

सांस्कृतिक कथा

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं