अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

शोक गीत

सभी कुछ तो है यहाँ
बस... तुम नहीं हो।

 

है वही तट, जिस रेत तुमने कल यहाँ पदचिन्ह छोड़े,
छटपटायी ढूँढती हूँ, कहाँ, क्या-क्या चिन्ह छोड़े,
निर्दयी लहर लेकिन, सब एक सा क्यों कर गई,
पैर रखने से दबी बालू को ऊपर कर गई है।

 

ज्यों पथिक कोई न आया, यूँ अछूता सा बनाया,
काल के क्रम में विरह का पीर-स्वर क्यों मिलाया,
कौन से स्वर में पुकारूँ, यह पीर-स्वर जो सुनों तुम
हो कहाँ, कैसी हो बोलो, संकेत, भ्रम, कुछ तो कहो तुम?

 

सभी कुछ तो है यहाँ, बस... तुम नहीं हो।
है नहीं विश्वास आता, यूँ अचानक कोई जाता!
उम्र की परवाह के बिन, काल क्या ऐसे उठाता?
क्या यम की नीतियाँ टूटती, इस युग में आकर?
क्या पता खो दी हो दृष्टि, अंधा क्या कुछ देख पाता?

 

क्यों हुआ, ऐसा भी क्या..., शब्द टूटते हैं अधर छूकर,
नयन रह रह दृष्टि खोते, आँसुओं के जाल फंस कर।

 

सभी कुछ तो है यहाँ, बस... तुम नहीं हो।
अब नहीं स्वर, मुझको तुम्हारा प्यार से छू पाएगा,
अब नहीं आश्वासन, सीख, झिड़कियाँ दे पाएगा,
अब नहीं मन बाँटने को, फोन मैं कर पाऊँगी,
अब नहीं तार के उस पार, कोई जग पाएगा।

 

संबन्धों से मुक्ति पाकर, जा बसी हो तुम कहाँ पर?
साथ में ले सकीं क्या स्मृतियों का संसार-सागर?

 

एक जन से इतनी जनता साथ अपना जोड़ती है
एक ही व्यक्ति के अलग रूप दिखते हर जगह पर
अंत में किन्तु अकेला जन चला सब छोड़ क्यूँ कर?
संबन्ध लिपटा दिल तड़पता देख कर वह खाली गागर।

 

सभी कुछ तो है यहाँ, बस... तुम नहीं हो।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

लघुकथा

साहित्यिक आलेख

पुस्तक चर्चा

कविता

नज़्म

कहानी

कविता - हाइकु

पुस्तक समीक्षा

कविता-मुक्तक

स्मृति लेख

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं