अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य ललित कला

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

शुभचिन्तक

वह दुबले छरहरे बदन की गंदमी रंग की गम्भीर, सभ्य, सुसंस्कृत सामान्य सी लड़की थी। दो बच्चे हाई स्कूल में पढ़ते थे, पर चेहरा या शरीर उसके औरत होने का समर्थन नहीं भरते थे।

अभी ऑफ़िस पहुँची ही थी कि फोन की घंटी टनटना उठी।

"हैलो ! हू इज़ ऑन द लाइन।" उसने दफ़्तरी मकेनिकल स्वर में पूछा

"मानसी ! नितिन हेयर, सुबह स्कूटर में हवा कम लग रही थी, सोचा पूछ लूँ, ठीक से पहुँच गई हो," स्वर में मिश्री भी थी और आत्मीयता भी। उसने हाँ हूँ करके फोन पटक दिया।

*        *           *

घड़ी देखी। चार पचपन हुए थे। वह घर लौटने की तैयारी में थी कि ट्री ट्री होने लगी।

“हैलो," वह जल्दी में थी।

“मानसी, मैं बोल रहा हूँ अरविन्द। कल बच्चों का पेयरेंट- टीचर मीट है। तुम चाहो तो रहने देना। मैंने अपने अप्पू के लिए तो जाना ही है। तुम्हारे बेटे का भी देख लूँगा।“

उसने पटाक से फोन फेंक दिया।

*        *           *

जब तक वह ज़िंदा था, शराब की गंध से घर गँधाता रहता। वह खीजती, कलपती, कुढ़ती रहती। काश न होता! किसी से यह तो कह पाती-  ’नहीं है। विधवा हूँ।’ कोई पूछे क्या करता है, तो इस बेकार, निखट्ठू के लिए झूठ गढ़ना पड़ता। त्रासदी यह कि झूठ अगली बार तक याद  भी नहीं रहता था। तब शर्मिंदा होने के सिवाय कोई चारा ही न बचता। 
तब ऐसे फोन कभी नहीं आए थे- उसके मरते ही इतने शुभचिन्तक? सभी मेरे ख़सम बने फिरते हैं - वह उफनाई हुई थी।
 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंतर 
|

"बस यही तुम में और मनोज में अंतर है,…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कहानी

पुस्तक समीक्षा

यात्रा-संस्मरण

साहित्यिक आलेख

कविता

शोध निबन्ध

पुस्तक चर्चा

लघुकथा

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं