अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

स्त्री विमर्श

लिखा है
महर्षि दुर्वासा
अपनी असंयत क्रोधाग्नि से
उपेक्षित करने वाली 
पुंजकस्थली को
बंदरी का
शकुन्तला को 
पति-विस्मरण का 
शाप देते आए हैं

 

जानते हो
बलात्कार 
देवताओं का अधिकार क्षेत्र है
इन्द्र की तरह।
और ऋषि पति 
पत्नियों को पत्थर बनाते आए हैं
सतयुग से। (चोर चोर मौसेरे भाई)

 

तुम्हें पता है
राजकन्याओं की नियति?
डम्बो पति 
माँओं की आज्ञाएँ शिरोधार्य करते
पत्नियों को मिल बाँट चखते थे
शूरवीर पांडवों की तरह।
अम्बाएँ 
यहाँ से वहाँ
वहाँ से यहाँ
लुढ़कती रही
अग्नि संचित करती रही
प्रतिशोध लेने को
जन्म जन्मान्तर तक 
द्वापर में।

 

याद है
राजरानी पत्नियों के
सतीत्व के निर्णायक सुप्रीम कोर्ट
धोबी घाट में लगते थे
और
धर्मपरायण राजा
सिर झुकाए दंड विधान मानते थे
त्रेतायुग में।

 

और कहते हैं कि
सफ़ेद संगमरमर से बना
आगरे का ताजमहल
एक बादशाह ने
अपनी पत्नी की कब्र हेतु
बनवाया था
मृत्युपरान्त का स्थायी निवास
कलिकाल में।
 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

पुस्तक समीक्षा

यात्रा-संस्मरण

कहानी

साहित्यिक आलेख

कविता

शोध निबन्ध

पुस्तक चर्चा

लघुकथा

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं