अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

स्वच्छता अभियान शुरू!

नगरपालिकाध्यक्ष ने ’स्वच्छ भारत अभियान’ के तहत शहर को गन्दगीमुक्त करने का संकल्प ले लिया था। ’स्वच्छ भारत अभियान’ का शहर में शुभारम्भ करने के लिए नगरपालिकाध्यक्ष ने एक मंत्रीजी को भाषण देने के लिए आग्रह किया। पहले तो मंत्रीजी ने चुनावी रैली का बहाना बनाकर प्रस्ताव को टालना चाहा किन्तु कलेक्टर साहब के द्वारा लिखे गए विशिष्ट आग्रह पत्र के कारण उनको मानना पड़ा। मंत्रीजी भाषण देने दोपहर तीन बजे के बाद आये। आते ही मंत्री जी ने सभी से मेल-मिलाप किया और भाषण देना शुरू किया।

उन्होंने कहा, "बहनों व भाईयो, अगर हमें हमारे शहर को साफ सुथरा व गन्दगीमुक्त बनाना है तो हम सभी को ’स्वच्छ भारत अभियान’ में बढ़-चढ़कर भाग लेना होगा। हमें सड़क पर कचरा फेंकने से बचना होगा। हमें हमारी गन्दी आदतों को त्यागना होगा तथा कचरे को सुव्यवस्थित रूप से कचरा पात्र में डालना होगा ताकि नगरपालिका के सफाई कर्मियों को सफाई करने के दौरान परेशानियों का सामना न करना पड़े।"

इस तरह से मंत्रीजी ने अपना भाषण लगभग एक घंटे जारी रखा और शहरवासियों का दिल जीत लिया। नगरपालिकाध्यक्ष ने भी मंत्रीजी की मुक्त कंठ से तारीफ़ की तथा ’स्वच्छ भारत अभियान’ में सहयोग देने के लिए मंत्रीजी का धन्यवाद किया। समारोह के समाप्त होने के बाद नगरपालिकाध्यक्ष व सफाई कर्मियों ने मिठाई व केलों का वितरण किया। मंत्रीजी को भी नगरपालिकाध्यक्ष ने उपहार स्वरूप एक मिठाई का डिब्बा व कुछ केले दिए।

गाड़ी में बैठने के बाद मंत्रीजी ने केला खाया व छिलके को खिड़की से बाहर फेंकते हुए ड्राईवर से पूछा, "रामसिंह, तुम्हे क्या लगता है, अबकी बार हमारी सरकार बनेगी?"

ड्राईवर ने खिड़की खोली और अपने मुँह से पान के पीक को सड़क पर थूकते हुए अपनी मूंडी हिला दी और इसी के साथ शहर में स्वच्छता अभियान शुरू हो गया था!

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

नज़्म

सांस्कृतिक कथा

लघुकथा

बाल साहित्य कविता

कविता

कहानी

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं