अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

स्वागत

ताऊ भरथु जवानी से ही ऐसे दल का समर्थन करते रहे, जिसका गाँवों में कोई जनाधार नहीं था, जिससे हर चुनाव के बाद ताऊ को मन मसोसकर रह जाना पड़ता था। लेकिन वक़्त ने पलटा खाया, इस बार उस दल का उम्मीदवार बिरजूदास चौधरी भारी बहुमत के साथ विजयी हुआ। ताऊ भरथु की तो ख़ुशी का ठिकाना ना रहा। वह अपने हाथों से तैयार किये रंग-बिरंगे फूलों का हार लेकर, नवनिर्वाचित विधायक बिरजू नाथ चौधरी के स्वागत के लिए गाँव के पास से गुज़रने वाले राष्ट्रीय राजमार्ग की ओर चल पड़ा; क्योंकि मतगणना केंद्र से जीतकर लौट रहे बिरजूदास चौधरी का क़ाफ़िला इसी रास्ते से गुज़रने वाला था। परन्तु ताऊ भरथू यह देखकर हैरान रह गया कि बिरजूनाथ चौधरी के घोर विरोधी भी हाथों मे नोटों के हार लिए वहाँ खड़े, “बिरजू दास चौधरी ज़िंदाबाद!“ नारे लगा रहे थे। 

इस दल के समर्थकों की इतनी बड़ी भीड़ ताऊ भरथु ने पहले कभी नहीं देखी थी। काफ़ी देर के बाद चौधरी बिरजू दास की गाड़ियों का क़ाफ़िला नज़र आया, सड़क पर जाम लग गया। बड़ी संख्या में हाथों मे हार लिए हुए लोग, खुली गाड़ी में खड़े चौधरी बिरजूदास चौधरी की तरफ़ दौड़ पड़े। ताऊ भरथु लड़खड़ाते क़दमों से जैसे ही उस गाड़ी की तरफ़ बढ़ा, उसे किसी का ऐसा ज़ोरदार धक्का लगा कि वह ऊँचे राजमार्ग से लुढ़कता हुआ नीचे गहरी खाई में जा गिरा। और उसकी आँखों के आगे अँधेरा छा गया। जब उसे होश आया तो उसने उठकर सड़क की तरफ़ देखा; उसके प्रिय नेता का क़ाफ़िला आगे निकल चुका था। फूलों का वह हार अब भी उसने कसकर पकड़ा हुआ था।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंतर 
|

"बस यही तुम में और मनोज में अंतर है,…

टिप्पणियाँ

पाण्डेय सरिता 2021/09/16 11:44 AM

इसी को दुनिया कहते हैं। बहुत खूब

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

लघुकथा

सांस्कृतिक कथा

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं