अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

स्वर्ग का अंत

(वीडियो देखें...)

संग्राम 
संध्यापूर्व ही 
शुरू हुआ था
जब बौने पेड़ों 
की परछायाँ
उनसे कहीं 
लंबी हो गयीं
और 
अंधकार ने
दस्तक दे दी। 
 
साँझ की धुँध में 
पस्त, परास्त सूर्य
लज्जा से लाल 
डरा, सहमा हुआ 
सियाह तिमिर 
में डूबे बादलों के 
अर्ध-पारदर्शी 
आवरण में लिपटा 
पर्वतों के पीछे 
छिपता छुपाता 
अंततः अस्त हुआ
 
और रात्रि की कालिमा 
गगन की लालिमा 
निगल गयी। 
अँधेरे का काला 
कम्बल ओढ़े 
सहमे से,
निशब्द
पेड़ पौधे 
पर्वत, नाले 
मौन खड़े
अपना रंग खो 
काली आकृतियाँ 
बन गए,
और प्रकृति 
अपनी साँस रोके 
थी
स्थिर, स्तंभित।

कुछ कुत्ते 
कुछ देर
भौंके ज़रूर 
फिर चुप हुए 
शायद अकेले 
पड़ गए
और 
नीरवता की 
गगनभेदी ख़ामोश 
नाद में 
उनकी पुकार 
अनसुनी सी रह गयी 

अनिश्चित 
टिमटिमाते तारे 
अंधकार में 
रक्षक और भक्षक 
का भेद करने में
असमर्थ 
हो गए 
. . . और 
इस अँधेरे में 
गुल कर 
स्वर्ग लुप्त 
हो गया!

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

नज़्म

हास्य-व्यंग्य कविता

विडियो

ऑडियो

उपलब्ध नहीं