अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

स्वार्थ और सत्ता

वह कुछ दिन पूर्व ही मंत्री पद से हटे थे। एक दिन एकांत में बैठे-बैठे वह चींटों को देख रहे थे। चींटे भागे चले जा रहे थे, क़तारबद्ध, बेतहाशा, दूसरे डले की ओर। पहले डले का सारा गुड़ वह चट कर चुके थे। शायद भूख से तिलमिलाए हुए थे? बड़ी संख्या में भी थे। धीरे-धीरे गुड़ का डला, डला न रहकर मात्र एक कंकर रह गया था।

उन्होंने देखा सभी तरह के चींटे लाल–काले, बड़े-छोटे, तेज़ या धीमे चलने वाले एक लक्ष्य ही साधे हुए हैं, किस प्रकार शीघ्रातिशीघ्र पहुँचकर दूसरे डले का अधिकाधिक गुड़ चट किया जाये? जब चींटे पहले डले के गुड़ को खा रहे थे, तब उन्होंने एक-दो को हटाने की कोशिश भी की थी किन्तु चींटों ने उलटे उनपर ही प्रत्याक्रमण कर दिया था। यह उन्हें हटाते, और वे इन्हें काटते। सारे चींटे टुकड़े-टुकड़े हो गए किन्तु उन्होंने मुँह को गुड़ में ही गड़ाये रखा।

चींटों की चींटियों की लम्बी-लम्बी क़तारें सभी दिशाओ में एक ही लक्ष्य से भागी चली जा रही थीं। दरवाज़ों से, खिड़कियों से, यहाँ तक कि छत पर से कूद रहे थे समर्थ और दादा चींटे।

उनके लिए मीठा था गुड़ से भरा हुआ पूरा नया डाला। पुराना डला जो मात्र कंकर रह गया था, एक दम अकेला पड़ा हुआ था।

अब क्या वह स्वयं मात्र कंकर रह गए हैं? सोचते-सोचते चींटों-चींटियों की आपाधापी से अपना मुँह मोड़ लिया। बाहर खिड़की से झाँक कर देखा उनके सभी समर्थक नए कुर्सीधारी के हो चुके थे। समर्थक किसी एक व्यक्ति के तो कभी रहते नहीं? मात्र पद या सत्ता के होते हैं। अब उनके समर्थकों के पाँव, नए मंत्री की ओर जा रहे थे।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

यात्रा-संस्मरण

हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी

लघुकथा

कविता-मुक्तक

कविता

हास्य-व्यंग्य कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं