अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

स्वीमिंग पूल

स्थानांतरण वाली नौकरी थी सो सिंह दम्पती ने सेवानिवृत्ति के बाद राज्य की राजधानी वाले शहर में बिल्डर से एक डुप्लेक्स ख़रीदा।

इस डुप्लेक्स में कुछ दिनों तक मि. सिंह ने अकेले रहकर वुड-वर्क कराया फिर परिवार को ले गए।

मकान में प्रवेश द्वार के पास दायीं ओर गेराज था जबकि बायीं ओर लगभग 12 बाई 12 फीट का लॉन था। गार्डनिंग में रुचि होने से पहुँचते ही श्रीमती सिंह ने लॉन देखा वअगले दिन से उसमें तरह-तरह के पौधे लगाने शुरू कर दिए। उनकी 4 वर्षीय छोटी पोती पीहू रोज़ ग़ौर से देखती रहती।

एक दिन दादी-पोती सवेरे-सवेरे बाहर निकले तो पीहू ने देखा कि लॉन ग़ायब; लॉन  वाली पूरी जगह में लगभग 6 फ़ीट गहरा गड्ढा।

पीहू हैरानी से बोली, "दादी, दादी! आपकी खेती कहाँ गई, मुझे लगता है कोई चुरा ले गया है दादी!!"

"अरे पीहू! मुझे लगता है कि बब्बा जी स्विमिंग पूल बनवा रहे हैं," यह पीहू की बड़ी बहिन 8 वर्षीय मिट्ठू जी के बोल थे, जो न जाने कब आकर पीछे खड़े हो गई थी।

मिट्ठू की बात सुनकर दादी की हँसी छूट पड़ी।

वास्तव में हुआ यह था कि लॉन में पौधे रोपते समय श्रीमती सिंह ने देखा कि मिट्टी में गिट्टी, टाइल्स के टुकड़े आदि बहुतायत में होने से पौधे लगाने में कठिनाई तो होती ही है। पौधे ठीक से पनप भी नहीं पा रहे हैं, सो उन्होंने मिट्टी बदलवाने के लिए लॉन की पूरी मिट्टी निकलवा दी थी। नई मिट्टी आज डाली जानी थी। दोनों पोतियाँ इस बात से अनजान थीं।

श्रीमती सिंह ने नाश्ते के समय दोनों पोतियों की उपस्थिति में ही यह घटना मि. सिंह को बताई  तो वह कहते हैं- "ओह, अनुमान लगाने की ग़ज़ब की शक्ति ! शाबाश बेटियो!"   ....फिर हँसते हुए बोले, "आख़िर पोतियाँ किसकी हैं!"

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

खीर का अंक गणित
|

उस दिन घर में साबूदाना की खीर बनी थी। छोटी…

प्लेन में पानी ले जाने की मनाही
|

हमारी नतिनी करीना ५ वर्ष की उम्र में अपनी…

बच्चे की दूरदर्शिता
|

उन दिनों हमारा छः वर्षीय बेटा अनुज डेकेयर…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

बच्चों के मुख से

लघुकथा

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं