अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

त्रिलोक सिंह ठकुरेला के दोहे  - 3

रिश्तों में रस घोलती, अपनेपन की गंध।
हैं काग़ज़ के फूल से, प्रेमरहित सम्बंध॥

 

दुख कपूर उड़ जाएगा, मन की गठरी खोल।
मरहम से कमतर नहीं, ढाढ़स के दो बोल॥

 

धर्मनिष्ठ  मैं भी घना, किंतु मुझे यह खेद।
यहाँ धर्म की आड़ में, क्यों उग आये भेद॥

 

जीवन की सौ उलझनें, दो  पल बैठैं पास।
तेरे मेरे दुख हरे, यह निश्छल परिहास॥

 

क़ीमत नहीं मनुष्य की, मूल्यवान गुण, बोल।
दो कौड़ी की  सीप है, मोती है अनमोल॥

 

लघु पगडंडी प्रेम की, गयी सुखों की ओर।
स्वार्थ-भँवर में जो फँसे, उनका ओर  न छोर॥

 

भावों की कुछ ऊष्मा, मन में रखो सहेज।
सूरज हठी घमंड का, होना है निस्तेज॥

 

चाहे सब अनुकूल हो, चाहे हो प्रतिकूल।
जीवन के हर मोड़ पर, रखना साथ उसूल॥

 

धरती का मन देखकर, रिमझिम बरसा मेह।
बूँद बूँद से सुख झरा, झूमी प्यासी देह॥

 

आशाओं की नाव रख, साहस की पतवार।
श्रम के सागर में उतर, यदि होना है पार॥

 

मॉल खड़ा है गर्व से, लेकर बहुविधि माल।
स्वागत पाता, जो वहाँ, सिक्के  रहा उछाल॥  

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अर्थ छिपा ज्यूँ छन्द
|

बादल में बिजुरी छिपी, अर्थ छिपा ज्यूँ छन्द।…

अख़बार
|

सुबह सुबह हर रोज़ की,  आता है अख़बार।…

अफ़वाहों के पैर में
|

सावधान रहिये सदा, जब हों साधन हीन। जाने…

ऋषभदेव शर्मा - 1 दोहे : 15 अगस्त
|

1. कटी-फटी आज़ादियाँ, नुचे-खुचे अधिकार। …

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

किशोर साहित्य कविता

बाल साहित्य कविता

किशोर साहित्य कहानी

कविता - हाइकु

दोहे

कविता-मुक्तक

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं