अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य ललित कला

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

तुम इस शहर में सुकूँ ढूँढते हो

तुम इस शहर में सुकूँ ढूँढते हो
बड़े ना-समझ हो क्या कहाँ ढूँढते हो

 

तामीर थी ताज या जुनून-ए-मौहब्बत
यह तुम पे है तुम क्या यहां ढूँढते हो

 

क्या तुम्हारी यह हालत ना-काफ़ी बयाँ है
जो अब तक तुम उसमे मेहरबाँ ढूँढते हो

 

हम तो शुमार हैं मिसाल-ए-तन्हा
और तुम मुझमें कोई कारवां ढूँढते हो

 

न रहता है क़ासिद अब कोई यहाँ पर
मेरा पता ले के मुझको कहां ढूँढते हो

 

हर तरफ हज़ारों आदमी ही मिलेंगे
न मिलेगा तुमको जो इन्साँ ढूँढते हो

 

बदल जाता बयाँ है दरमियाँ दिल-ओ-ज़ुबाँ के
यहाँ तुम उल्फ़त का जहां ढूँढते हो

 

तुम्ही बोलो मुमकिन हो मुलाकात कैसे
हम यहाँ ढूँढते हैं तुम वहाँ ढूँढते हो

 

यह हालात हैं कि दिल लहू ढूँढता है
और तुम मेरी आँखों में फ़ुग़ाँ ढूँढते हो

 

अपने हाथों से हस्ती को मिटाया था जिसकी
क्यूँ भला आज उसके निशाँ ढूँढते हो

 

यह पेशा है उसका, तेरा बनना बिगड़ना
कोई फ़ैज़ क्या तुम यहाँ ढूँढते हो

 

वो है पिनहाँ हरेक ज़र्रे में जहां के
तुम जिसका कब से निशाँ ढूँढते हो

 

क्या हुए पहले वाकिफ़ हक़ीक़त से नहीं थे
जो आज कोई फिर गुलिस्ताँ ढूँढते हो

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

1984 का पंजाब
|

शाम ढले अक्सर ज़ुल्म के साये को छत से उतरते…

 हम उठे तो जग उठा
|

हम उठे तो जग उठा, सो गए तो रात है, लगता…

अच्छा लगा
|

तेरा ज़िंदगी में आना, अच्छा लगा  हँसना,…

अच्छा है तुम चाँद सितारों में नहीं
|

अच्छा है तुम चाँद सितारों में नहीं, अच्छा…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

नज़्म

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं