अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

तुम मेरी कविता

जब मन का तालाब
दर्द की बारिश में सराबोर हो कर
रिसता रहता है आँसू बन कर,
हर बूँद में ढल कर
नमकीन अहसास लिए तुम आती हो।

 

और जब कंकर फेंक फेंक कर
बार बार पानी में शून्य बनाता हूँ
और उन शून्य के घेरों में
खोजता रहता हूँ अपनी छवि।
उस काँपती तस्वीर में उभर कर फिर
नया विश्वास लिए तुम आती हो।

 

या जब नदी के बाँध
लगातार समय के थपेड़ों से
लड़ लड़ कर, थक कर
जवाब देने लगते हैं;
उस उफान में उबल कर
या बवण्डर के मंथन में मथ कर
मिट्टी का आभास लिए तुम आती हो।

 

आती हो तुम उस चाँदनी रात को
जब चाँद का प्यार
बिखर रहा था अंतरिक्ष के पार,
और जब छोटे घने बादल
टूट पड़ते हैं उस चाँद पर
उस मासूम खरगोश पर जैसे
झपट पड़े थे गिद्धों के झुंड।

 

या जब कोई ख़्वाहिश की मौत पर
चुल्लू भर पानी में
ख़ुदकुशी को आतुर ज़िन्दगी
साहस के चप्पू तेज़ी से चलाती है
और एक किनारा बन कर
मसीहा की तरह तुम आती हो।

 

और जब विरह के समंदर के किनारे
यादों की लहरों से कबड्डी खेल कर
गीली रेत में सपनों का घर बना
इंतज़ार करता रहता है मन,
नये शृंगार लिए फिर तुम आती हो।

 

और तुम आती हो जब,
सजता सँवरता हूँ मैं ख़ूब:
भावों में नहा कर,
अलंकारों से शृंगार कर,
रेशम के छंद पहन,
समर्पन से तिलक करता हूँ,
तुम्हारा, तुम मेरी कविता।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

कविता-मुक्तक

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं