अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

टूटी हुई डोर

तो तुम्हें भी रास नहीं आया
मेरा आज़ाद होना,
अस्तित्वहीन बंधन की डोर से।

 

कुछ सच भी तो नहीं था,
तुम्हारी हलचल आँखों की कोर से।
तो मैं कैसे बँधा रहता,
अस्तित्वहीन बंधन की डोर से।

 

लोगों की तरह तुम्हें भी
कर्णप्रिय नहीं थे,
मेरे शब्दों के अर्थ।
तुम्हें प्रिय भी नहीं थी,
मेरे सिद्धान्तों की शर्त।
कुछ सम्बल भी नहीं थे,
तुम्हारे हाथों के ज़ोर से।
तो मैं कैसे बँधा रहता,
अस्तित्वहीन बंधन की डोर से।

 

समय की तरह तुम्हें भी
मंजूर नहीं थे,
मेरे ख़ामोशियों के जज़्बात।
तुम्हें पसंद भी नहीं थे,
मेरे वक़्त के हालात।
तुमने आवाज़ भी दी तो ज़माने के शोर से।
तो मैं कैसे बँधा रहता,
अस्तित्वहीन बंधन की डोर से।

 

कुछ बचा भी नहीं है मेरे पास,
मेरे शोषित भावनाओं को छोड़कर
अब कौन होगा?
तुम्हारे शोषण का हक़दार,
मुझे पाबंद छोड़कर।
अब कैसे गर्वित होगे?
किस पे फ़ैसला सुनाकर।
कौन सुनेगा मेरे बाद,
चुपचाप गरदन झुकाकर।
कुछ कहा भी तो तुमने,
चिलमनों के छोर से।
तो मैं कैसे बँधा रहता,
अस्तित्वहीन बंधन की डोर से।

 

क्या अब भी कुछ बाक़ी है,
तुम्हारे शोषण के कोश में?
मैं अब भी सहने को तैयार हूँ
होशो-हवास में।
अब कुछ भी नहीं बचा
तुम्हारे रिश्ते कमज़ोर से।
तो मैं कैसे बँधा रहता,
अस्तित्वहीन बंधन की डोर से।
 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं