अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

यू.एस. आनन्द दोहे - 2

बदल गया अब आदमी, बदले उसके काम।
दिन में सौ-सौ बार वह, बदले अपना नाम॥

बची नहीं सद्भावना, बचा नहीं अब प्यार।
नैतिकता कुंठित हुई, मानवता बीमार॥

आज चतुर्दिक हो रही, मानवता की हार। 
दानवता की जय कहे, गाँव, शहर, अखबार॥

युग ऐसा अब आ गया, बिगड़ गया माहौल।
सड़कों पर जन घूमते, हाथ लिए पिस्तौल॥

दानवता के सामने, मानवता लाचार।
कैसी है यह बेबसी, कैसा यह व्यापार॥

बड़बोलों की भीड़ में, खड़ा संत चुपचाप। 
सहमत है हर बात पर, कह कर माई-बाप॥

चलना दूभर हो गया, सड़कों पर है आज।
मनमानी होने लगी, आया जंगल-राज॥

दहशत कुछ ऐसी बढ़ी, घटे हास परिहास । 
अर्थहीन-सी जिन्दगी, आए कुछ ना रास॥

भ्रष्टाचारी घूमते, यहाँ-वहाँ निःशंक। 
सज्जन दुबके फिर रहे, ऐसा है आतंक॥

वनफूलों की आजकल,फीकी पड़ी सुगन्ध।
साँसों में घुलने लगी, अब बारूदी गंध॥

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अर्थ छिपा ज्यूँ छन्द
|

बादल में बिजुरी छिपी, अर्थ छिपा ज्यूँ छन्द।…

अख़बार
|

सुबह सुबह हर रोज़ की,  आता है अख़बार।…

अफ़वाहों के पैर में
|

सावधान रहिये सदा, जब हों साधन हीन। जाने…

ऋषभदेव शर्मा - 1 दोहे : 15 अगस्त
|

1. कटी-फटी आज़ादियाँ, नुचे-खुचे अधिकार। …

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

दोहे

कविता

बाल साहित्य कहानी

लघुकथा

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं