अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

उठो

(सबूत क्यों चाहिए)
प्रेषक : रेखा सेठी

 

उठो, एक बार फिर ज़ोर लगाएँ
शायद दरवाज़ा खुल जाए
चार दशाब्दियों से बंग हुए
पल्ले अकड़ गए हैं
कुंडे चूल जकड़ गए हैं
नामुमकिन लगता है सब-
बिना हवा कंधे कमज़ोर

 

माना, तुम जन्मे इसी अंधे कोठर में
बाली हवा में पले
फेफड़े पूरे न बढ़े
दाँतों से काटी थी नाल तुम्हारी
लेकिन
ये दरवाज़े भी चालीसों साल पुराने हैं
घर बनाया तो होगा ही दीमक ने
जंग ने की तो होगी जंग फ़ौलाद से!

 

मेरे बूढ़े रोशनी-पिए कंधे
तुम्हारे जवान अंधेरे पुट्ठे
मिल कर ठेल नहीं पाएँगे क्या
सुरंग से निकलने का रास्ता?

 

एक बात तो देख लो
                    धूप आसमान
सूँघ लो चाँद नई
हवा के थेपेड़ों में खड़े रहने की
कोशिश तो कर लो
बाहर के क़ैदियों से मिल लो
ढूँढ लो उसकी गर्दन
जिसने डाली थी बेड़ियाँ
दरवाज़े पर ताले-कुंडियाँ...

 

अँधेरे के मुकाबले ही रोशनी
छोटी-बड़ी है
प्यार की पहचान कभी-कभी
विस्फोट से होती है
जानता नहीं जो
वही जानता है सबसे ज़्याआ
खेल-खेल में आ पहुँचती है मंज़िल
जिसका अता-पता नहीं था
किसी नक्श पर
प्रतिक्रिया कह कर
नकार में जीना क्या
और जीने के लिए
मरना भी पड़े
तो मरना क्या?

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं